ताज़ा खबर
 

पीएनबी घोटाला: खाते फ्रीज फिर भी जमकर पैसे उड़ाते रहे नीरव मोदी और राहुल चौकसी, 5 महीने में खर्चे 50 करोड़ रुपये!

पंजाब नेशनल बैंक को करोड़ों का चूना लगाकर भागे नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के बारे में बड़ी बात सामने आई है। देश छोड़कर भागने और खाता फ्रिज होने के बाद भी नीरव और उसके परिवार वालों ने करोड़ो रुपए खर्च कर दिए हैं।

Author Updated: March 14, 2019 8:17 AM
भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी। (फाइल फोटो)

पंजाब नेशनल बैंक को करोड़ों का चूना लगाकर भागे नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के बारे में बड़ी बात सामने आई है। देश छोड़कर भागने और खाता फ्रिज होने के बाद भी नीरव और उसके परिवार वालों ने करोड़ो रुपए खर्च कर दिए हैं।जनवरी 2018 में आए 13,600 करोड़ के घोटाले के बाद से नीरव मोदी भारत छोड़कर ब्रिटेन में रह रहा है।
सूत्रों ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि Saumil Diam LLC नामक एक कंपनी का नीरव मोदी और उसके रिश्तेदार मेहुल चौकसी (फ्रॉड का आरोपी) दोनों से संबंध है। इस कंपनी ने कॉरपोरेट क्रेडिट कार्ड के जरिए इन दोनों की पैसे निकालने में मदद की ।सूत्रों की मानें तो नीरव और उसके परिवार ने मार्च 2018 से लेकर अक्टूबर 2018 इस कार्ड से करीब 50 करोड़ खर्च किए गए।

गौरतलब है कि घोटाला सामने आने से पहले नीरव मोदी और मेहुल चौकसी ने जनवरी 2018 में देश छोड़ दिया था। नीरव मोदी मौजूदा समय में ब्रिटेन में है और कहा जा रहा है कि वह नया हीरे का बिजनेस शुरु करने वाला है।जबकि मेहुल चौकसी एंटीगुआ और बारबुडा का नागरिक बन गया है। यूएस द्वारा नियुक्त किए गए एक निरीक्षक की एक रिपोर्ट के मुताबिक Saumil Diam नामक कंपनी ने ही 1,257 करोड़ से अधिक का फंड मुहैया कराया था। यह फंड फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग(LoUs)के नाम निकाला गया था।

2016 से 2017 के दौरान गीतांजलि जेम्स लिमिटेड को लेटर ऑफ अंडरटेकिंग फंड के नाम पर 800 करोड़ भी Saumil Diam LLC ने ही दिलाया था। इसके बाद इस कंपनी को नीरव मोदी की कंपनी सीनो ट्रेडर्स से 50 करोड़ रुपए मिले थे।और इसी दौरान मोदी की कंपनी फायरस्टार इंटरनेशनल लिमिटेड को 64 करोड़ रुपए ट्रांसफर किया गया था। इतना ही नहीं Saumil Diam LLC के जरिए ही 2016 में मोदी और चौकसी के फॉरेन लेटर्स ऑफ क्रेडिट के लिए भी रिपेयमेंट की रकम मुहैया कराई थी।

बता दें कि जांच के मुताबिक Saumil Diam  हीरे और आभूषण की कंपनी है जिसका मालिक मितेश कोठारी है। जिसका सिर्फ एक ही कर्मचारी है और ऑनलाइन भी इस कंपनी की मौजदूगी काफी कम है और कंपनी की कोई वेबसाइट नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories