X

बाजार में बढ़ेगी फर्जी करेंसी! यूं आसानी से करें 500 और 2000 के असली नोटों की पहचान

आरबीआई के दावे के उलट एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया, "आरबीआई का यह वादा कि 200 और 500 (नोटबंदी के बाद) के नोट अधिक सुरक्षित और इनसे जालसाजी (नकली नोट बनाकर) नहीं की जा सकेगी, यह बात पूरी तरह से सही नहीं है।"

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने हाल ही में दावा किया था कि 200, 500 और 2000 रुपए के नए नोट पहले के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित हैं। पर बुधवार (29 अगस्त) को जारी हुई भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की एक रिपोर्ट में इस बात को पूरी तरह से सही नहीं ठहराया गया। आरबीआई के दावे के उलट एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया, “आरबीआई का यह वादा कि 200 और 500 (नोटबंदी के बाद) के नोट अधिक सुरक्षित और इनसे जालसाजी (नकली नोट बनाकर) नहीं की जा सकेगी, यह बात पूरी तरह से सही नहीं है।” यानी बाजार में फर्जी करेंसी बढ़ने की आशंका बरकरार है।

एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने रिपोर्ट में आंकड़े का जिक्र करते हुए बताया, “रिपोर्ट के अनुसार 500 (4,178 फीसदी की बढ़ोतरी) और 2000 (2,710 फीसदी का इजाफा) के नकली नोटों की संख्या में भारी बढ़ोतरी देखने को मिली है। इन नए नोटों में नकली नोट और भी बढ़ सकते हैं, लिहाजा आरबीआई, बैंक और आम जनता को इस पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है।” यानी आने वाले समय में बाजार में फर्जी करेंसी बढ़ सकती है। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे कि कैसे 500 और 2000 के फर्जी नोटों की पहचान की जा सकती है।

2000 का नोट जामुनी या हल्का बैगनी रंग का होता है। नोट की पहचान की शुरुआत आगे की ओर से करते हैं। यहां बाईं ओर 2000 लिखा होता है, जिसे लाइट की रोशनी के आगे कर के साफ देखा जा सकता है। पास में एक जगह और डिनॉमिनेशन नंबर लिखा होगा, जबकि देवनागरी में थोड़ा ऊपर 2000 दिखेगा। अंकों से पहले रुपए का चिह्न भी होता है। नोट के केंद्र में महात्मा गांधी की तस्वीर मिलेगी। नोट की बाईं ओर महीन अक्षरों में आरबीआई और 2000 लिखा रहता है। नोट पर छोटा सा भारत भी दिख जाएगा। नोट पर सिक्योरिटी थ्रेड (पतली सी पट्टी) भी दिया जाता है, जिस पर भारत, आरबीआई और 2000 लिखा दिखता है। नोट जब भी ऊपर-नीचे कर के देखा जाता है, तो इस थ्रेड का रंग हरे से नीला हो जाता है।

वहीं, नोट के पीछे बाईं ओर उसकी छपाई का साल लिखा रहेगा। स्वच्छ भारत का लोगो के साथ उसका स्लोगन भी होता है। मंगलयान की आकृति बनी मिलेगी, जबकि देवनागरी में डिनॉमिनेशन नंबर लिखा रहेगा। चित्र में देखें कि नोट के आगे और पीछे वे कौन सी चीजें हैं, जिनसे आप असली और नकली नोट का फर्क कर सकते हैं-

अब बात आती है 500 रुपए के नोट की। यह नोट स्टोन ग्रे रंग का होता है। आगे बाईं ओर 500 लिखा होता है। यह लाइट की रोशनी के आगे साफ देखा जा सकता है। अगल-बगल डिनॉमिनेशन नंबर लिखे मिलेंगे। नोट के बीच में महात्मा गांधी का फोटो होता है। 2000 के नोट की तरह इसमें भी सिक्योरिटी थ्रेड दिया जाता है, जो नोट को अलग-अलग एंगल से देखने पर रंग बदता है। यह हरे से नीला हो जाता है। थ्रेड के पास में मौजूदा आरबीआई गर्वनर उर्जित पटेल के हस्ताक्षर मिलेंगे। आरबीआई का लोगो भी दिखेगा। पोट्रेट और इलेक्ट्रोटाइप वॉटरमार्क भी नोट पर रहते हैं। पीछे इसमें तिरंगे के साथ लाल किला का फोटो होता है, जबकि दाईं ओर डिनॉमिनेशन नंबर मिलेगा। नोट का साइज 63mm x 150mm होता है। चित्र की मदद से जानिए कि कौन सी चीजें हैं, जो 500 के असली नोट में होती हैं-

 

  • Tags: Reserve Bank of india,