ताज़ा खबर
 

NEW BUDGET में भारत पेश करेगा और अधिक सुधार: सुषमा स्वराज

विदेशी निवेश आकर्षित करने के प्रयासों के संदर्भ में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि भारत की नई सरकार आगामी बजट और आने वाले दिनों में विदेशी निवेश को आकर्षित करने एवं भारत को उत्पादन के लिए पसंदीदा स्थान बनाने के मकसद से और अधिक सुधारवादी उपाय पेश करेगी। ओमान की राजधानी में […]

Author February 18, 2015 12:11 PM
इस माह नए बजट में भारत पेश करेगा और अधिक सुधार: स्वराज (फोटो: रॉयटर्स)

विदेशी निवेश आकर्षित करने के प्रयासों के संदर्भ में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि भारत की नई सरकार आगामी बजट और आने वाले दिनों में विदेशी निवेश को आकर्षित करने एवं भारत को उत्पादन के लिए पसंदीदा स्थान बनाने के मकसद से और अधिक सुधारवादी उपाय पेश करेगी।

ओमान की राजधानी में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित करते हुए स्वराज ने कहा कि भारत को निवेश एवं उत्पादन का लक्षित स्थान बनाने के लिए प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया अभियान के जरिए कई कदमों की घोषणा की जा चुकी है। इसी तरह, वर्ष 2014 में आए पिछले बजट में गंगा नदी की सफाई और विकास के लिए एनआरआई कोष की स्थापना की गई थी और सरकार ने डिजीटल इंडिया कार्यक्रम अपनाया है।

तेल के धनी खाड़ी देश की अपनी पहली यात्रा पर आईं स्वराज ने कहा कि सरकार ने इन प्रयासों से जुड़ने के लिए विदेशी और प्रवासी भारतीय उद्यमियों दोनों को ही आमंत्रित किया है। घोषित किए जाने वाले नए सुधारों की जानकारी दिए बिना स्वराज ने कल रात कहा, कई सुधार लागू किए गए हैं। कई और सुधार अभी प्रक्रिया में हैं जो इस माह के अंत में आने वाले बजट में शामिल होंगे।

स्वराज ने सरकार की 100 स्मार्ट सिटी परियोजना को रेखांकित किया, जिसमें भागीदारी का विकल्प खुला है। मंत्री ने कहा कि निर्माण, रेलवे और रक्षा क्षेत्रों में विदेशी निवेश की सीमा में छूट दी गई है। उन्होंने कहा, नई सरकार पारदर्शिता और सुशासन के साथ विकास के लिए प्रतिबद्ध है। हम विकास के पुनरूत्थान के लिए प्रयासरत हैं। इसका असर स्थितियों में सुधार और देश में बिजनेस के लिहाज से सकारात्मक एवं उत्साहपूर्ण माहौल के जरिए दिखने लगा है।

भाजपा की वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा कि पिछले आम चुनाव ऐसे ऐतिहासिक चुनाव थे, जिसमें लोगों ने तीन दशक बाद किसी एक दल को पूर्ण बहुमत दिया। भारत के आर्थिक विकास में प्रवासी भारतीयों की भूमिका की सराहना करते हुए मंत्री ने कहा, भारत का यह दढ़तापूर्वक मानना है कि विदेशों में रहने वाले भारतीयों को भारत की विकास गाथा का हिस्सा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आपके वर्षों तक धन भेजना जारी रखने से हमारे विदेशी मुद्रा कोष को योगदान मिला और आप भारत में रहने वाले लाखों निर्भर लोगों के लिए आजीविका का स्रोत हैं। भारत एक ऐसा देश है, जिसे दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रह रहे निर्वासित लोगों की ओर से भेजा गया सर्वाधिक धन प्राप्त होता है और खाड़ी क्षेत्र हमारे लिए इस तरह के विप्रेषित धन का सबसे बड़ा स्रोत है।

स्वराज की पहली ओमान यात्रा ऐसे समय में हुई है, जब दोनों देश आपसी कूटनीतिक संबंधों की स्थापना की 60वीं वर्षगांठ मनाने की तैयारियां कर रहे हैं। मंत्री ने ओमान के साथ द्विपक्षीय संबंधों की 60वीं वर्षगांठ के एक प्रतीक चिन्ह का भी अनावरण किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App