ताज़ा खबर
 

20 प्रतिशत तक घट सकते हैं प्राकृतिक गैस के दाम: ओएनजीसी

पिछले 18 माह के दौरान गैस के दाम में यह चौथी कटौती होगी। सरकार ने अक्तूबर, 2014 में गैस मूल्य निर्धारण का जो फार्मूला तय किया था उसीके अनुरूप ये दाम तय हुए हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: September 9, 2016 7:22 PM
सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी)

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) सहित सभी प्राकृतिक गैस उत्पादकों को मिलने वाले गैस का मूल्य अक्तूबर में 20 प्रतिशत घटकर 2.5 डॉलर प्रति दस लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट रह सकता है। दाम में यह गिरावट दुनिया में गैस के गिरते दाम के अनुरूप होगी। ओएनजीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक डी.के. सर्राफ ने यह बात कही। पिछले 18 माह के दौरान गैस के दाम में यह चौथी कटौती होगी। सरकार ने अक्तूबर, 2014 में गैस मूल्य निर्धारण का जो फार्मूला तय किया था उसीके अनुरूप ये दाम तय हुए हैं।

सर्राफ ने कंपनी की गुरुवार (8 सितंबर) को हुई वार्षिक आम बैठक के बाद आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि ओएनजीसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज के मौजूदा तेल उत्पादक क्षेत्रों से निकलने वाली प्राकृतिक गैस का दाम एक अक्तूबर 2016 से घटकर 2.5 डॉलर प्रति दस लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट (एमएमबीटीयू) रह सकता है। वर्तमान में दाम 3.06 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू पर है। सर्राफ ने संवाददाताओं से कहा, ‘सामान्य घरेलू गैस का दाम कम हो रहा है, क्योंकि यह दाम कुछ बाजारों से जुड़ा है। हमारे पास कनाडा और अमेरिकी मूल्य है। इनमें भी दाम नीचे आ रहे हैं।’

वर्तमान राजग सरकार ने अक्तूबर 2014 में गैस मूल्य का नया फॉर्मूला तय किया था। उसके मुताबिक गैस के दाम हर छह माह में संशोधित किए जाएंगे और इस लिहाज से गैस का अगला मूल्य निर्धारण एक अक्तूबर से होना है। इससे पहले एक अप्रैल को गैस का दाम 3.06 डॉलर हुआ था। इससे पहले यह 3.82 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू था। पिछले साल एक अक्तूबर को प्राकृतिक गैस का दाम 4.66 डॉलर से घटाकर 3.82 डॉलर प्रति बैरल पर आए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सीसीआई ने 600 प्रतिस्पर्धा-रोधी मामले निपटाए: सीकरी
2 राजस्थान की 37,000 करोड़ रुपए की रिफाइनरी पर फैसला जल्द: एचपीसीएल
3 सेंसेक्स 248 अंक टूटा, सप्ताह के दौरान दोनों सूचकांकों कुल मिला कर सुधार