ताज़ा खबर
 

पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन: दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति से मिले नरेंद्र मोदी, आतंकवाद पर रोक और सामुद्रिक सुरक्षा पर चर्चा

दोनों नेताओं ने भारत-आरओके व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौता (सेपा) में सुधार के लिए समझौते की प्रगति की समीक्षा की।

Author वियेंतेन | September 8, 2016 4:55 PM
वियेंतेन के लाओस में आसियान शिखर सम्मेलन से इतर भारत-दक्षिण कोरिया द्विपक्षीय वार्ता के दौरान एक-दूसरे से हाथ मिलाते भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क ग्वेन-हे। (PTI Photo by Vijay Verma/8 Sep 2016)

भारत और दक्षिण कोरिया ने गुरुवार (8 सितंबर) को द्विपक्षीय रणनीतिक भागीदारी की समीक्षा की और आतंकवाद पर अंकुश तथा सामुद्रिक सुरक्षा समेत विभिन्न महत्वपूर्ण क्षेत्रों में परस्पर सहयोग बढ़ाने के उपायों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के अवसर पर दक्षिण कोरियायी राष्ट्रपति पार्क ग्वेन-हे से अलग से बातचीत की और द्विपक्षीय रणनीतिक भागीदारी की समीक्षा की। दोनों देशों ने अभी पिछले साल ही मोदी की दक्षिण कोरिया की यात्रा के सयम विशेष पारस्परिक संबंधों को विस्तार दे कर विशेष रणनीतिक भागीदारी का स्तर दिया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि कोरिया की राष्ट्रपति पार्क ने मोदी द्वारा शुरू किए गए कोरिया प्लस कार्यक्रम की सराहना की और कहा कि इससे भारत में कोरियाई कंपनियों द्वारा निवेश और बढ़ेगा। दोनों नेताओं ने भारत-आरओके व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौता (सेपा) में सुधार के लिए समझौते की प्रगति की समीक्षा की। इसके अलावा दक्षिण कोरिया द्वारा भारत के बुनियादी ढांचा विकास के लिए घोषित 10 अरब डॉलर के वित्तीय पैकेज पर भी चर्चा हुई।

स्वरूप ने कहा कि दोनों देशों के आयात-निर्यात (एक्जिम) बैंक दक्षिण कोरिया द्वारा घोषित वित्तीय सहायता पैकेज के उपयोग के लिए तरीकों पर चर्चा कर रहे हैं। दोनों नेता इस बात पर सहमत हुए कि लोकतंत्र और मुक्त बाजार अर्थव्यवस्था के प्रति साझी प्रतिबद्धता तथा एक दूसरे की अनुपूरक शक्ति ने भारत और दक्षिण कोरिया को आदर्श भागीदार बनाया है।

स्वरूप ने कहा कि राष्ट्रपति पार्क मोदी की प्रशंसा यह कहते हुए कही प्रधानमंत्री के सक्रिय नेतृत्व के कारण भारत का दर्जा बढ़ रहा है। उन्होंने भारत की आर्थिक विकास रणनीति की सफलता पर मोदी की प्रशंसा की क्यों कि इसके कारण वैश्विक नरमी के बावजूद भारत की वृद्धि दर सात प्रतिशत से ऊपर है। मोदी ने अपनी दक्षिण कोरिया यात्रा को ‘यादगार’ बताया और राष्ट्रपति पार्क को भारत आमंत्रित किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App