ताज़ा खबर
 

राज्यों की ओर से श्रम कानूनों में बदलाव पर केंद्र का कड़ा रुख, कहा- सामाजिक सुरक्षा के आड़े आने वाले नियम होंगे खत्म

केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने बताया है कि देश भऱ में करीब 15 राज्यों ने श्रम कानूनों में बदलाव किए हैं। संसदीय समिति को भरोसा दिलाते हुए श्रम सचिव हीरालाल समारिया और अन्य अधिकारियों ने कहा कि किसी भी राज्य को सोशल सिक्योरिटी कोड बिल का उल्लंघन नहीं करने दिया जाएगा।

पीएम नरेंद्र मोदी

किसी भी राज्य सरकार की ओर से लागू ऐसे श्रम कानूनों को खत्म किया जाएगा, जो श्रमिकों की सामाजिक सुरक्षा के खिलाफ होंगे। केंद्र सरकार ने श्रम मामलों की संसदीय समिति को यह भरोसा दिलाया है। कोरोना संकट के बाद से पहली बार हुई समिति की बैठक में प्रवासी मजदूरों के पलायन को लेकर भी चर्चा हुई और यह सुझाव भी आया कि श्रमिकों को सोशल सिक्योरिटी नंबर दिया जाना चाहिए ताकि उन्हें अपने गृह राज्य के बाहर भी लाभ मिल सके। बीजे़डी सांसद भर्तृहरि महताब ने कोरोना काल में कई राज्यों की ओर से श्रम कानूनों में बदलाव के मुद्दे को उठाया।

बता दें कि बीजेपी शासित राज्य उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश समेत करीब दर्जन भर राज्यों ने श्रम कानूनों में बदलाव किए हैं। इन पर सवाल भी उठे थे और तब केंद्रीय श्रम मंत्री ने इन्हें लेकर अपनी राय जाहिर करते हुए कहा था कि ऐसे किसी भी कानून को श्रम सुधार नहीं कहा जा सकता, जिसमें श्रमिकों के अधिकारों की सुरक्षा न होती हो। दरअसल इन राज्यों ने कोरोना काल में चीन छोड़ने वाली कंपनियों को आकर्षित करने के मकसद से ये फैसले लिए थे। सूत्रों के मुताबिक संसदीय समिति ने श्रम कानूनों में बदलाव करने वाले 9 राज्यों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

हालांकि केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने बताया है कि देश भऱ में करीब 15 राज्यों ने श्रम कानूनों में बदलाव किए हैं। संसदीय समिति को भरोसा दिलाते हुए श्रम सचिव हीरालाल समारिया और अन्य अधिकारियों ने कहा कि किसी भी राज्य को सोशल सिक्योरिटी कोड बिल का उल्लंघन नहीं करने दिया जाएगा। समित के कुछ सदस्यों ने कई राज्यों में वर्किंग आवर्स को 8 से 12 घंटे किए जाने पर भी सवाल उठाया, जिस पर केंद्र सरकार ने कहा कि यह अवैध है और इसकी अनुमति नहीं दी जाएगी।

यही नहीं केंद्र सरकार ने कहा कि ऐसे कई अन्य बदलावों को भी हटाया जाएगा, जो श्रमिकों के अधिकारों का हनन करते हों। केंद्र सरकार ने कहा कि श्रमिकों के अधिकारों को संविधान की समवर्ती सूची में रखा गया है और ऐसे किसी भी विवाद की स्थिति में केंद्र सरकार की ओर से राज्यों के बदलावों को खारिज किया जा सकता है। केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने 2019 में सोशल सिक्योरिटी कोड बिल लोकसभा में पेश किया था। फिलहाल यह बिल स्टैंडिंग कमिटी के समक्ष है और इसे मॉनसून सेशन में पारित किया जा सकता है।

Next Stories
1 अमेजॉन पर भारतीय MSME के उत्पादों का निर्यात 2 अरब डॉलर के पार, 60 हजार कारोबारी बने हिस्सा
2 पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने ट्विटर पर शेयर की बचपन की तस्वीर, लिखा- गुरुकुलों ने संघर्ष करना सिखाया
3 बैंक कर्मचारी बोले, हमें भी है कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा, सप्ताह में 5 वर्किंग डेज की उठाई मांग
ये पढ़ा क्या?
X