N chandrashekhran take Tata Group Charge, First Non parsi in 150 History - Jansatta
ताज़ा खबर
 

चंद्रशेखर संभालेंगे टाटा समूह की बागडोर, 150 साल के इतिहास में पहले गैर-पारसी

चंद्रशेखर को 12 जनवरी को टाटा संस का चेयरमैन नियुक्त किया गया।

Author मुंबई | February 20, 2017 4:26 PM
एन चंद्रशेखरन होंगे टाटा संस के नए चेयरमैन (फाइल फोटो)

एन चंद्रशेखर मंगलवार (21 फरवरी) को देश के प्रमुख औद्योगिक घराने टाटा समूह की बागडोर संभालने जा रहे हैं। टाटा समूह के 150 साल के इतिहास में इस पद के लिए चुने जाने वाले वे पहले गैर-पारसी हैं। उम्मीद की जा रही है कि 54 वर्षीय चंद्रशेखर इस औद्योगिक घराने को निदेशक मंडल में हाल ही में मचे घमासान के साये से निकालते हुए भविष्य की विकास की राह पर ले जाएंगे। चंद्रशेखर को देश की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्यातक कंपनी टाटा कंसलटेंसी सर्विसेज (टीसीएस) को उस मुकाम पर पहुंचाने का श्रेय जाता है जिस पर आज वह है। वे टाटा समूह की अनेक परिचालन कंपनियों की प्रवर्तक फर्म टाटा संस के नये चेयरमैन होंगे।

उन्हें 12 जनवरी को टाटा संस का चेयरमैन नियुक्त किया गया। चंद्रशेखर ने पिछले सप्ताह ही कहा था कि नयी जिम्मेदारी ‘बहुत बड़ा काम’ है जहां अनेक ‘चुनौतियों व अवसर’ हैं। इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि नये पद पर वे कुछ अलग कर पाएंगे। इस पद पर चंद्रशेखर के समक्ष पहली सबसे बड़ी चुनौती समूह की इस्पात कंपनी टाटा स्टील के यूरोपीय परिचालन को लेकर है।

12 जनवरी को नियुक्त किए गए चेयरमैन

मिस्त्री को हटाए जाने के बाद टाटा घराने के पितृपुरुष रतन टाटा कंपनी के अंतरिम चेयरमैन बनाए गए थे। मिस्त्री को गत 24 अक्तूबर को अप्रत्याशित रूप से चेयरमैन पद से हटाने के बाद समूह की कंपनियों के निदेशक मंडलों में भारी खींचतान व कड़ुवाहट फैल गयी थी। चंद्रा के नाम से लोकप्रिय 54 वर्षीय चंद्रशेखरन 21 फरवरी को अंतरिम चेयरमैन रतन टाटा से टाटा संस के चेयरमैन का पदभार संभालेंगे। टाटा समूह देश विदेश में सालाना 103 अरब डॉलर से अधिक का कारोबार करता है। चंद्रशेखरन ने अपनी नियुक्ति के बाद कहा कि टाटा समूह तीव्र बदलाव से गुजर रहा है और उनका ‘प्रयास होगा कि समूह को नैतिका और उन मूल्यों के साथ आगे बढाने में मदद की जा सके जिनके आधार पर इसका निर्माण हुआ है।’

कंपनी ने एक बयान में कहा, ‘टाटा संस के निदेशक मंडल की आज हुई बैठक में चंद्रशेखरन को कार्यकारी चेयरमैन नियुक्त करने का फैसला किया गया। चंद्रा की नियुक्ति चयन समिति की सर्वसम्मत सिफारिश के बाद की गई है।’ बयान में यह नहीं बताया गया है कि शीर्ष पद पर चंद्रशेखरन का कार्यकाल कितना होगा। इसमें यह भी नहीं बताया गया है कि रतन टाटा की आगे क्या भूमिका। मिस्त्री को हटाए जाने के बाद टाटा को टाटा संस का अंतरिम चेयरमैन नियुक्त किया गया था।

टीसीएस में चंद्रशेखरन का स्थान राजेश गोपीनाथ लेंगे। फिलहाल वह कंपनी में मुख्य वित्त अधिकारी हैं। चंद्रशेखरन की नियुक्ति की घोषणा करते हुए टाटा संस के निदेशक मंडल ने कहा, ‘श्री चंद्रशेखरन ने टीसीएस के सीईओ तथा प्रबंध निदेशक के रूप में अनुकरणीय नेतृत्व का प्रदर्शन किया है।’ चंद्रशेखरन 2009 से टीसीएस के सीईओ और प्रबंध निदेशक है। टीसीएस को टाटा समूह की दुधारू गाय कहा जाता है। वह टाटा के साथ 1987 में जुड़े थे। मिस्त्री को हटाए जाने के एक दिन बाद यानी 25 अक्तूबर, 2016 को उन्हें टाटा संस के निदेशक मंडल में शामिल किया गया था।

टाटा सन्स ने एन चंद्रशेखरन को नियुक्त किया कंपनी का नया चेयरमैन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App