Mysterious turn to Sahara $2-bn deal; BofA says not a banker - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सहारा: मिराक ने बैंक ऑफ अमेरिका के फर्जी पत्र से उसे दिया धोखा

संकट से जूझ रहे सहारा समूह ने कहा कि अमेरिकी कंपनी मिराक कैपिटल ने उसे दो अरब डालर की रिण सहायता देने के मामले में बैंक आफ अमेरिका का ‘जाली पत्र’ देकर उसके साथ ‘धोखा’ किया है और वह उसके खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई करेगा। सहारा समूह ने एक सख्त बयान में कहा,‘हम मिराक कैपिटल […]

Author February 6, 2015 9:36 AM
मिराक ने बैंक ऑफ अमेरिका के फर्जी पत्र से धोखा दिया: सहारा

संकट से जूझ रहे सहारा समूह ने कहा कि अमेरिकी कंपनी मिराक कैपिटल ने उसे दो अरब डालर की रिण सहायता देने के मामले में बैंक आफ अमेरिका का ‘जाली पत्र’ देकर उसके साथ ‘धोखा’ किया है और वह उसके खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई करेगा।

सहारा समूह ने एक सख्त बयान में कहा,‘हम मिराक कैपिटल ग्रुप (एमसीएच) और इस मामले में शामिल उसके अधिकारियों के खिलाफ भारत व अमेरिका में दीवानी व फौजदारी मामला दायर करने समेत हर उपयुक्त कानूनी कार्रवाई करेंगे।’ सहारा ने मिराक के व्यवहार को ‘गैर जिम्मेदाराना’ करार दिया है।

सहारा का यह बयान बैंक आफ अमेरिका के इस बयान के बाद आया है कि उसका सहारा और मिराक कैपिटल के सौदे से कोई लेना देना नहीं है। मिराक कैपिटल भारतीय मूल के सारांश शर्मा की कंपनी है जिसके बारे में सहारा के साथ सौदे की खबर से पहले लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं थी। सहारा ने अपने प्रमुख सुब्रत राय की जमानत के लिए धन जुटाने की कोशिश के तहत इसके साथ सौदे का प्रस्ताव किया था।

सहारा ने कहा है कि उसे मिराक कैपिटल के साथ समझौते के बारे में पहली फरवरी को कुछ ‘चिंताजनक सूचनाएं’ मिली थीं। इसके बाद उसने अपने स्तर पर बाकायदा जांच शुरू की और बैंक आफ अमेरिका (बोफा) के पत्र की प्रमाणिकता की जांच की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App