ताज़ा खबर
 

Reliance Industries का ऐलान, पूरी गैस आपूर्ति नहीं की तो भुगतान से भरपाई करेगी मुकेश अंबानी की कंपनी

कंपनी का कहना है कि यदि वह गैस आपूर्ति नहीं कर पाई तो उसके लिए भुगतान करेगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज इससे पहले केजी- बेसिन से गैस आपूर्ति को लेकर अपनी प्रतिबद्धताओं पर खरी नहीं उतर पाई थी।

Author नई दिल्ली | Updated: September 14, 2019 11:23 AM
रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी। (Photo: Reuters)

रिलायंस इंडस्ट्रीज 2020 के मध्य से उसके नये क्षेत्रों से उत्पादित गैस आपूर्ति के अनुबंधों में ‘‘आपूर्ति या फिर भुगतान’’ की पेशकश कर रही है। कंपनी का कहना है कि यदि वह आपूर्ति नहीं कर पाई तो उसके लिए भुगतान करेगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज इससे पहले केजी- बेसिन से गैस आपूर्ति को लेकर अपनी प्रतिबद्धताओं पर खरी नहीं उतर पाई थी।

रिलायंस और उसकी भागीदार ब्रिटेन की बीपी पीएलसी की ओर से बंगाल की खाड़ी के केजी-डी6 ब्लॉक में आर-श्रृंखला के क्षेत्रों से उत्पादित गैस की बिक्री के लिए जो आमंत्रण नोटिस (एनआईओ) निकाला गया है उसमें पहली बार तय मात्र के स्थान पर वैकल्पिक ईंधन की खरीद के लिए भुगतान की पेशकश की गई है। नई पेशकश खरीदो या भुगतान के प्रावधान के अतिरिक्त है। इसमें खरीदार द्वारा जितनी खरीद की प्रतिबद्धता जताई जाती है उतने का उठाव करना होता है। यदि खरीदार इससे कम मात्रा की खरीद करता तो उसे उसके लिए भुगतान करना पड़ता है।

रिलायंस ने पूर्व में केजी-डी6 ब्लाक के धीरूभाई-एक और तीन (डी1 और डी3) तथा एमए क्षेत्रों से छह करोड़ घनमीटर प्रतिदिन गैस आपूर्ति की प्रतिबद्धता जताई थी। इसके लिए रिलायंस ने उर्वरक, बिजली और अन्य उपभोक्ताओं के साथ खरीद- बिक्री समझौता किया था। लेकिन उसके इन क्षेत्रों से उत्पादन प्रतिबद्धता से काफी कम रहा। इन क्षेत्रों से उत्पादन अप्रैल 2009 में शुरू हुआ था, लेकिन दो साल में ही उत्पादन में गिरावट आनी शुरू हो गई। इससे कंपनी के कई ग्राहकों को अन्य स्रोतों से गैस खरीदनी पड़ी या संयंत्रों को बंद करना पड़ा था। एमए क्षेत्र में पिछले साल से उत्पादन बंद है। यही वजह है कि कंपनी अब नये अनुबंध में कुछ नये प्रावधानों को शामिल कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मंदी से बाहर नहीं आ पा रहा ऑटो सेक्टर! Mahindra & Mahindra अब अधिकतम 17 दिन बंद रखेगा कारखाने
2 इंडिया सीमेंट के MD बोले, ‘बिना बात रोने वाला बच्चा बन गया है ऑटो सेक्टर, जीएसटी में नहीं देनी चाहिए छूट’