मुकेश अंबानी को टक्कर देने के लिए जेफ बेजोस की नई योजना, अब इस सेक्टर में उतरने की तैयारी

Mukesh Ambani VS Jeff Bezos: कोरोनाकाल में मल्टीप्लेक्स से जुड़े कारोबारों को भारी नुकसान हुआ है। कई मल्टीप्लेक्स कंपनियां घाटे में चल रही है। इसका लाभ उठाने के लिए अमेजन इंडिया थियेटर चेन में हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रही है।

Scorpio rashi, amazon founder jeff bezos, vrischika rashi, mula nakshatra, lucky nakshatra,
मूल नक्षत्र में जन्मे लोगों के विचार काफी दृढ़ होते हैं और इनमें निर्णय लेने की अच्छी क्षमता होती है।

अमेरिका के दिग्गज कारोबार जेफ बेजोस और रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी के बीच चल रही कारोबारी जंग अब एक और सेक्टर में हो सकती है। जेफ बेजोस अब अपनी कंपनी अमेजन इंडिया के एंटरटेनमेंट कारोबार में विविधता लाने पर विचार कर रहे हैं। इसके लिए कई फिल्म और मीडिया डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियों में साझेदारी खरीदने की संभावनाओं पर विचार किया जा रहा है। इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इसमें मुंबई की थियेटर चेन आइनॉक्स लेजर भी शामिल है।

कोरोना महामारी के कारण मल्टीप्लेक्स जैसे कारोबारों पर बहुत बुरा असर पड़ा है। बार-बार लगने वाले लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों से मल्टीप्लेक्स को और ज्यादा दिक्कत हो रही है। इसको देखते हुए अमेजन इंडिया कुछ कारोबारों में हिस्सेदारी खरीदने पर विचार कर रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, अमेजन के विविधता लाने के प्रयासों के तहत विभिन्न कंपनियों की हिस्सेदारी खरीदने में आइनॉक्स भी शामिल है।

2016 से भारत में ओटीटी कारोबार कर रही है अमेजन: अमेरिका की दिग्गज कंपनी अमेजन ई-कॉमर्स के साथ 2016 से भारत में ओवर-द-टॉप यानी ओटीटी कारोबार से भी जुड़ी है। हालांकि, ओटीटी की ग्रोथ कंपनी के अनुमान के मुताबिक नहीं रही है। पिछले साल के पहले 6 महीनों के बाद अमेजन प्राइम ने कंपनी की उम्मीद के मुताबिक ग्रोथ नहीं किया है। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि तीन-चार सौदों को लेकर बातचीत चल रही है। इसमें संकट का सामना कर रही कंपनियां भी शामिल हैं। सूत्र के मुताबिक, इसमें से कुछ के साथ अमेजन इंडिया की बातचीत एडवांस दौर में भी पहुंच गई है।

महामारी से पहले भारतीय में 1.5 अरब डॉलर का निवेश किया था: अमेजन ने कोरोना महामारी से पहले भारतीय कारोबार में 1.5 अरब डॉलर का निवेश किया था। इसमें से बड़ी राशि का निवेश ई-कॉमर्स कारोबार में किया गया था। अमेजन भारत में ई-कॉमर्स से जुड़ी पॉलिसी में बदलाव के कारण चुनौतियों का सामना कर रही है। इसके अलावा कंपनी को मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल और वॉलमार्ट के निवेश वाली फ्लिपकार्ट से भी कड़ी टक्कर मिल रही है। इससे पहले अमेजन ने अमेरिका की थियेटर चेन एएमसी से भी हिस्सेदारी खरीदने को लेकर बातचीत की थी, लेकिन वह सौदा पूरा नहीं हो पाया था।

एंटरटेनमेंट कारोबार में भी रिलायंस से मिलेगी टक्कर: अमेजन को भारत में एंटरटेनमेंट कारोबार के विस्तार में भी मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज से कड़ी टक्कर मिलेगी। पिछले तीन साल में मुकेश अंबानी ने ताबड़तोड़ कंपनियों की खरीदारी की है। इसमें एंटरटेनमेंट और डिस्ट्रीब्यूशन से जुड़ी कंपनियां भी शामिल हैं। रिलायंस ने मार्च 2018 में अपनी डिजिटल म्यूजिक सर्विस जियो म्यूजिक की ओटीटी प्लेटफॉर्म सावन में विलय कर दिया था। नई एंटिटी में रिलायंस की करीब 80 फीसदी हिस्सेदारी है। इसके अलावा रिलायंस ने डेन नेटवर्क्स में 66 फीसदी, बालाजी टेलीफिल्मस में 25 फीसदी और इरोज इंटरनेशनल में 5 फीसदी हिस्सेदारी खरीद है।

आइनॉक्स लेजर का स्पष्टीकरण: अमेजन की ओर से हिस्सेदारी खरीदने से जुड़ी खबरों को लेकर आइनॉक्स ने स्टॉक एक्सचेंज को स्पष्टीकरण भेजा है। आइनॉक्स ने कहा है कि उसकी अमेजन से कोई बातचीत नहीं चल रही है। ना ही इस संबंध में पहले भी कोई बात हुई है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट