ताज़ा खबर
 

रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की डील पर लगी रोक, अमेजॉन की अपील पर आर्बिट्रेशन पैनल का फैसला

मामले की सीधे तौर पर जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने आर्बिट्रेशन पैनल के फैसले को लेकर कहा कि रिलायंस और फ्यूचर की डील पर आया यह निर्णय अमेजॉन के लिए व्यापक जीत की तरह है। अब उसे इस डील को रोके जाने के लिए एक तरह से एक आदेश मिल गया है।

kishore biyani mukesh ambaniकिशोर बियानी और मुकेश अंबानी

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की डील पर सिंगापुर स्थित आर्बिट्रेशन पैनल ने फिलहाल रोक लगा दी है। जेफ बेजोस की ऑनलाइन रिटेल कंपनी अमेजॉन की याचिका पर पैनल ने यह फैसला लिया है। अमेजॉन का कहना है कि फ्यूचर ग्रुप ने रिलायंस के साथ डील करके उसके साथ हुए करार का उल्लंघन किया है। दरअसल पिछले साल अमेजॉन ने किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप की कंपनी फ्यूचर कूपन्स लिमिटेड में 49 पर्सेंट की हिस्सेदारी खरीदी थी। इस कंपनी के पास फ्यूचर रिटेल की भी 7.3 फीसदी हिस्सेदारी है, जिसके कारोबार को किशोर बियानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज समूह को 24,700 करोड़ रुपये में बेच दिया है।

अपने बयान में रिलायंस ने कहा, RRVL को अमेजॉन की तरफ से आपातकाली जानकारी दी गई है कि फ्यूचर ग्रुप के साथ समझौतै के मामले में अंतिरम आदेश जारी किया है। RRVL सभी नियमों और भारतीय कानून को ध्यान में रखते हुए बिजनस शुरू किया था। फ्यूचर ग्रुप के साथ समझौता नियमों के खिलाफ नहीं है। कंपनी अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए बिना किसी देरी के ट्रांजैक्शन पूरा करेगी।

मामले की जानकारी रखने वाले सूत्र ने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया है कि इस मामले में अमेजॉन को मिले तत्काल आदेश में पैनल ने कहा कि फिलहाल डील को होल्ड पर रखा जाए, जब तक कि आर्बिट्रेशन पैनल का गठन नहीं होता है। रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप की डील को लेकर अमेजॉन का कहना है कि फ्यूचर ग्रुप के साथ हुए उसके करार के तहत यह तय हुआ था कि उसके पास ‘राइट ऑफ फर्स्ट रिफ्यूजल’ होगा। इसके अलावा कंपनी किसी अन्य प्रतिस्पर्धी समूह के साथ डील नहीं करेगी। अमेजॉन का कहना है कि रिलायंस के साथ डील करते हुए फ्यूचर ग्रुप ने करार की इन दोनों ही शर्तों को तोड़ने का काम किया है।

मामले की सीधे तौर पर जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने आर्बिट्रेशन पैनल के फैसले को लेकर कहा कि रिलायंस और फ्यूचर की डील पर आया यह निर्णय अमेजॉन के लिए व्यापक जीत की तरह है। अब उसे इस डील को रोके जाने के लिए एक तरह से एक आदेश मिल गया है। हालांकि यह फैसला सीधे तौर पर भारत में लागू नहीं होगा और इस आदेश की भारतीय कोर्ट द्वारा समीक्षा की जाएगी। उसके बाद ही इसे लागू किया जा सकेगा। अमेजॉन ने एक बयान जारी कर कहा कि वह आर्बिट्रेशन के फैसले का स्वागत करता है।

अमेजॉन ने कहा कि हम इस फैसले का स्वागत करते हैं, जिसने हमारी ओर से राहत की अपील को मानने का काम किया है। इस मामले में अब तक रिलायंस इंडस्ट्रीज और फ्यूचर ग्रुप की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। गौरतलब है कि रिलायंस की ओर से फ्यूचर ग्रुप को खरीदने से अमेजॉन को भारतीय मार्केट में प्रतिस्पर्धा गहराने का डर है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 COVID-19: दिवाली से पहले सरकार का बड़ा तोहफा! लॉकडाउन में लोन न चुका पाने वालों को ब्याज से मिली बड़ी राहत
2 LIC ने लॉन्च किया न्यू जीवन शांति प्लान, जानें- इस पेंशन स्कीम के क्या हैं फायदे
3 रिशद प्रेमजी से दिव्या महिंद्रा तक कारोबारी घरानों के इन बच्चों ने जाति-धर्म की दीवारें तोड़ की है शादी
ये पढ़ा क्या?
X