ताज़ा खबर
 

2 लाख रुपये से कारोबार शुरू कर महीने में कमा सकते हैं 40 हजार रुपये, जानिए कैसे

केंद्र सरकार की मुद्रा योजना के तहत आपको पापड़ मैनुफैक्चरिंग यूनिट लगाने में मदद मिलेगी। एक सरकारी रिपोर्ट (मुद्रा प्रॉजेक्ट प्रोफाइल) के मुताबिक, पापड़ मैनुफैक्चरिंग यूनिट से आप सालाना लगभग 5 लाख रुपये का ग्रॉस प्रॉफिट कमा सकते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक पापड़ मैनुफैक्चरिंग यूनिट लगाने में 10 लाख रुपये का खर्च होगा। (Source: Dreamstime)

अगर आप नया कारोबार करने की सोच रहे हैं तो पापड़ मैनुफैक्चरिंग यूनिट एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। सरकार इसके कारोबार के लिए आपकी मदद भी करेगी। केंद्र सरकार की मुद्रा योजना के तहत मैनुफैक्चरिंग यूनिट लगाने में आपको मदद मिलेगी। एक सरकारी रिपोर्ट (मुद्रा प्रॉजेक्ट प्रोफाइल) के मुताबिक आप सालाना लगभग 5 लाख रुपये का ग्रॉस प्रॉफिट कमा सकते हैं। तो चलिए विस्तार से जानते हैं इसके बारे में। रिपोर्ट के मुताबिक पापड़ मैनुफैक्चरिंग यूनिट लगाने में 10 लाख रुपये का खर्च होगा जिसकी 80 फिसदी रकम मुद्रा योजना के तहत सरकारी फंड द्वारा मुहैया कराई जाएगी। 8,18,000 रुपये बैंक लोन से मिलेंगे और 2,05,000 रुपये आपको इंवेस्ट करने होंगे।

मुद्रा प्रॉजेक्ट प्रोफाइल रिपोर्ट के मुताबिक, 10 लाख रुपये में 7 लाख रुपये फिक्स्‍ड कैपिटल अमाउंट होगा। फिक्स्‍ड कैपिटल में मशीनरी, फर्नीचर और अन्य सेट-अप का खर्चा शामिल है। इसमें मशीनरी का खर्च लगभग 6 लाख रुपये होगा। फर्नीचर का खर्च 38500 रुपये और बिजली-पानी का सालाना खर्च 55 हजार रुपये होने का एस्टिमेट किया गया है। वर्किंग कैपिटल 3.23 लाख रुपये की होगी। वर्किंग कैपिटल में रॉ मैटेरियल, इम्लॉज की सैलरी, लेबर चार्ज, पैकिंग, टेलिफोन बिल, रेंट आदि का एस्टिमेट दिया गया है। फिक्स्‍ड कैपिटल और वर्किंग कैपिटल का खर्च मिलाकर 10 लाख रुपये एस्टिमेट तैयार होता है। इसमें से आपको सिर्फ 2.05 लाख रुपये लगाने होंगे।

सरकार ने प्रोडक्शन कॉस्‍ट के हिसाब से टर्नओवर का रेश्‍यो भी तैयार किया है। इसके मुताबिक सालाना कॉस्ट ऑफ प्रोडक्शन 28.30 लाख रुपये होगी। सालाना टर्न ओवर लगभग 33.50 लाख रुपये, सालाना प्रॉफिट लगभग 5 लाख रुपये यानी मंथली ग्रॉस प्रॉफिट लगभग 40 हजार रुपये से ज्यादा होगा।

ऐसे करें आवेदन- पापड़ मैनुफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए आप प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत किसी भी बैंक में लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। बैंक में जाएं और एप्लिकेशन फॉर्म भरें। एप्लिकेशन फॉर्म में मांगी गई डिटेल्स भरें और अपने लोन की जरूरत का ब्यौरा दें। फॉर्म के लिए आपको कोई प्रोसेसिंग फीस या गारंटी फीस नहीं देनी होगी। लोन की रकम आपको 4 साल में लौटानी होगी। मैनुफैक्चरिंग यूनिट शुरू करने के लिए आपके पास 500 वर्गफुट का स्पेस होना चाहिए। अगर आपके पास स्पेस नहीं है तो किराए पर लेकर काम शुरू कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App