ताज़ा खबर
 

Motor Insurance का प्रीमियम तय करेगा DRIVING स्टाइल! लागू हो सकता है Telematics बीमा

Telematics को Black Box Insurance के नाम से भी जाना जाता है। पैनल के मुताबिक, "ड्राइवर्स की डीटेल्स पॉलिसी शेड्यूल में शामिल होंगी।"

Author Translated By अभिषेक गुप्ता मुंबई | Updated: November 28, 2019 5:19 PM
irdai, irdai motor insurance, motor insurance policy, two wheelers policy, irdai policy, auto news, business news, india news, national news, hindi news, jansatta newsतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (क्रिएटिवः नरेंद्र कुमार)

आगामी दिनों में Motor Insurance का प्रीमियम आपकी ड्राइविंग का स्टाइल तय कर सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि Telematics Insurance लागू होने की संभावना है। दरअसल, Insurance Regulatory and Development Authority (IRDAI) द्वारा गठित एक समूह ने मोटर व्हीकल्स के लिए टेलीमैटिक्स बीमा लागू करने का प्रस्ताव रखा है। टेलीमैटिक्स बीमा, में ‘pay as you drive’ और ‘pay how you drive’ कवर मिलेंगे, जो कि बीमित वाहन और उसके राइडर के डेटा के आधार पर होगा।

पैनल ने निजी कार और टू व्हीलर पॉलिसी के लिए ‘Named Driver Policy’ की सिफारिश विकल्प के तौर पर भी की है। ‘Named Driver Policy’, ऑटोमोबाइल इंश्योरेंस पॉलिसी के तौर पर होगी, जिसमें कवरेज सिर्फ ड्राइवर्स (जिनका पॉलिसी पर नाम होगा, न कि वाहन चलाने वाले अन्य लोगों को) को मिलेगा। पैनल के मुताबिक, “ड्राइवर्स की डीटेल्स पॉलिसी शेड्यूल में शामिल होंगी।”

IRDAI पैनल ने यह भी बताया, “Insurance Information Bureau of India (IIBI), जो कि बीमा कंपनियों के लिए डेटा कोष का काम करता है, वह डेटा और उसकी सुरक्षा का प्रबंधन कर सकता है।”  Universal Sompo General Insurance में मोटर इंश्योरेंस के हेड अरुण सिंह भदौरिया ने कहा- बीमा कराने वालों की संख्या के दृष्टिकोण से प्रोडक्ट में इस तरह का सुधार बेहतर और पारदर्शी कवरेज मुहैया कराएगा।

Telematics को Black Box Insurance के नाम से भी जाना जाता है। यह एक किस्म का कार बीमा होता है, जिसमें कार के भीतर एक छोटा सा डिब्बा फिट किया जाता है। काले रंग का यह बॉक्स कई पहलुओं का आकलन करता है। मसलन कैसे, कहां और कब-कार कार को चलाया गया।

इस डेटा का इस्तेमाल पर्सनलाइज रिन्यूवल कोट या फिर प्रीमियम और अन्य सेवाओं (एक्सिडेंट अलर्ट और थेफ्ट रिकवरी) की गणना के लिए किया जा सकता है। डिवाइस में चार मुख्य चीजें होती हैं, जिनमें GPS सिस्टम, मोशन सेंसर (इसे एक्सेलेरोमीटर के तौर पर भई जाना जाता है), एक सिम और कंप्यूटर सॉफ्टवेयर होता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मुकेश अंबानी के Network 18 को खरीदने की सोच रही BCCL, रिलायंस ने बताया बेबुनियाद, कहा- झूठी है रिपोर्ट
2 मुकेश अंबानी की संपत्ति बढ़कर हुई 5 लाख करोड़ से ज्यादा, RIL का मार्केट कैपिटल 10 लाख करोड़! बने देश के पहले ऐसे उद्योगपति
3 दो साल पहले इलेक्टोरल बॉन्ड पर वित्त सचिव और संयुक्त सचिव में हुई थी भिड़ंत, RBI से क्यों साझा की जानकारी?
IPL 2020
X