ताज़ा खबर
 

BPCL ने लिया भारत गैस पर बड़ा फैसला, हिस्सेदारी बेचने में जुटी है मोदी सरकार

BPCL के निदेशक मंडल ने कंपनी की सब्सिडरी भारत गैस रिसोर्सिज लिमिटेड (बीजीआरएल) का बीपीसीएल के साथ विलय को मंजूरी दे दी।

bpcl, modi govबीपीसीएल में हिस्सेदारी बेचने वाली है सरकार

केंद्र सरकार भारत पेट्रोलियम कापोर्रेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) में हिस्सेदारी बेचने की बिक्री प्रक्रिया में जुटी है। इस बीच, बीपीसीएल के निदेशक मंडल ने एक अहम फैसला लिया है।

क्या है फैसला: दरअसल, भारत पेट्रोलियम कापोर्रेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) के निदेशक मंडल ने कंपनी की सब्सिडरी भारत गैस रिसोर्सिज लिमिटेड (बीजीआरएल) का बीपीसीएल के साथ विलय को मंजूरी दे दी। बीपीसीएल ने शेयर बाजार को भेजी सूचना में बताया है, ‘‘कंपनी के निदेशक मंडल ने 22 मार्च 2021 को हुई बैठक में भारत गैस रिसोर्सिज लिमिटेड का कंपनी (बीपीसीएल) में विलय योजना को मंजूरी दे दी।’’

आपको बता दें कि बीजीआरएल, बीपीसीएल की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी वाली सब्सिडरी है। उसका मुख्य व्यवसाय गैस की खुदरा बिक्री करना है। कंपनी के साथ इस विलय से बीपीसीएल अपने कंपनी ढांचे को बेहतर बनायेगी और बीपीसीएल में बीजीआरएल की संपत्ति और देनदारियों को एकीकृत करेगी।

BPCL के शेयर का क्या हाल: इस बीच, कारोबार के दौरान BPCL के शेयर में बिकवाली देखने को मिली है। कंपनी का शेयर भाव 0.50 फीसदी से ज्यादा लुढ़क चुका है। वहीं, प्रति शेयर के हिसाब से देखें तो 437 रुपये पर भाव है। कंपनी का मार्केट कैपिटल 94 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा है।

आपको बता दें कि सरकार का जून तिमाही में बीपीसीएल की रणनीति बिक्री को पूरा करने का लक्ष्य है। सरकार को देश की दूसरी सबसे बड़ी खुदरा ईंधन कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) में नियंत्रणकारी हिस्सेदारी खरीदने को लेकर तीन प्रारंभिक बोलियां मिली हैं।

खनन कंपनी वेदांता ने नवंबर में बीपीसीएल में सरकार की 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने को लेकर रूचि पत्र जमा करने की पुष्टि की थी। दो अन्य बोलीदाताओं में से एक अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट है। सरकार ने 2021-22 में विनिवेश से 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है।

मुनाफे में है कंपनी: अहम बात ये है कि कंपनी मुनाफे में चल रही है। चालू वित्त वर्ष 2020-21 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में बीपीसीएल का मुनाफा 120 प्रतिशत उछलकर 2,777 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 की इसी तिमाही में कंपनी को 1,260 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। तेल के दाम में वृद्धि से पहले के बचे माल पर हुए लाभ के कारण कंपनी को फायदा हुआ है। आपको बता दें कि देश में बीपीसीएल की चार रिफाइनरी हैं। कंपनी की बिक्री 1.4 प्रतिशत बढ़कर 86,579 करोड़ रुपये रही।

Next Stories
1 अडानी समू​ह की कंपनी ने की 3600 करोड़ रुपये की डील, रॉकेट की तरह बढ़ी गौतम अडानी की दौलत
2 मुकेश अंबानी के समधी की कंपनी ने जुटाए 4 हजार करोड़ रुपये, ये है प्लान
3 Future Reliance deal: हाईकोर्ट के फैसले ने बढ़ाई मुकेश अंबानी की टेंशन! किशोर बियानी ने कही ये बात
ये पढ़ा क्या?
X