ताज़ा खबर
 

वर्क फ्रॉम होम के खिलाफ हैं माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला, कहा- यह काम के दौरान सोने जैसा

सत्या नडेला ने वर्चुअल मीटिंग्स को हतोत्साहित करने वाला बताया। सत्या नडेला ने कहा 30 मिनट की वर्चुअल मीटिंग से सभी को थकावट हो जाती है क्योंकि इसके लिए बहुत एकाग्रता की जरूरत होती है।

Author Edited By यतेंद्र पूनिया नई दिल्ली | Updated: October 7, 2020 3:33 PM
work from home, satya nadella, microsoft ceoप्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोनावायरस महामारी के दौरान दुनिया भर में वर्क फ्राम होम कल्चर बढ़ा है। अगर आपको लगता है कि वर्क फ्रॉम होम के कारण काम आपकी पर्सनल गतिविधियों में घुस रहा है और काम भी प्रभावित हो रहा है तो आप ऐसे अकेले व्यक्ति नहीं हैं। माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने भी वर्क फ्रॉम होम से अमहमति जताई है। सत्या नडेला ने वर्क फ्रॉम होम को काम के दौरान सोने जैसा बताया है। ब्लूमबर्ग के अनुसार वॉल स्ट्रीट जनरल सीईओ काउंसिल में सत्या नडेला ने कहा ऑनलाइन मीटिंग्स ने कर्मचारियों को टायर्ड किया है। इसके अलावा वर्क फ्रॉम होम ने कर्मचारियों की प्राइवेट लाइफ को भी मुश्किल बना दिया है। जब आप घर से काम कर रहे होते हैं तो कई बार ऐसा लगता है जैसे आप घर पर सो रहे हो।

ब्रेन स्टडीज का हवाला देते हुए सत्या नडेला ने वर्चुअल मीटिंग्स को हतोत्साहित करने वाला बताया। सत्या नडेला ने कहा 30 मिनट की वर्चुअल मीटिंग से सभी को थकावट हो जाती है क्योंकि इसके लिए बहुत एकाग्रता की जरूरत होती है। इसके अलावा सत्या नडेला ने ऑफिस से काम के फायदे भी गिनाए। सत्य नडेला ने कहा वीडियो मीटिंग ज्यादा ट्रांजैक्शनल है। ऑफिस में मीटिंग्स से पहले और बाद में भी काम होता है। माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने इस दौरान महामारी से सीख लेने पर भी अपने विचार सामने रखे। उन्होंने कहा महामारी ने उन्हें काम और पर्सनल एक्टिविटीज के बीच ट्रांजिशन को वैल्यू देना सिखाया है।

मैं ट्रांजिशंस के बारे में ज्यादा सीख रहा हूं। बाकी कर्मचारियों पर भी निर्भर करता है कि वो कैसे ट्रांजिशन करते हैं, फैमिली के साथ डिनर करते हैं या नहीं। इसके अलावा सत्या नडेला ने इस शेड्यूल पर अधिक ध्यान देने की भी बात कही। सत्या नडेला ने इस दौरान लॉकडाउन के दौरान कर्मचारियों की हायरिंग की चुनौतियों को भी हाईलाईट किया। कर्मचारियों को सक्सेसफुली ऑन-बोर्ड करना बहुत महत्वपूर्ण है। लर्निग, रि-स्कीलिंग,अप-स्क्रीलिंग बहुत महत्वपूर्ण मुद्दे बनने जा रहे हैं। नडेला ने कहा कंपनी ने हाल ही में वर्चुअल कोम्यूट फीचर लांच किया है। यह वर्क और पर्सनल लाइफ के बीच ट्रांजिशन के बारे में हमें रिमांइड कराएगा। यह फिजिकल कोम्यूट ना होकर मेंटल कोम्यूट ज्यादा है।

सत्या नडेला ने कहा माइक्रोसॉफ्ट के रिसर्च से पता चलता है कोम्यूट दिन की शुरुआत से अंत तक एक मीनिंगफुल ट्रांजिशन का काम कर सकते हैं। इससे हमारी प्रोडक्टिविटी 12 से 15 पर्सेंट तक बढ़ सकती है। सत्या नडेला ने इसके 2021 के मध्य तक तक उपलब्ध होने की बात कही। सत्या नडेला ने कहा वर्चुअल कोम्यूट दिन की प्रोडक्टिव शुरुआत से लेकर शाम को माइंडफुल डिस्कनेक्ट तक मदद कर सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अपने बच्चों से क्या चाहते थे मुकेश अंबानी? जानें, एशिया के सबसे अमीर शख्स ने दिया क्या जवाब
2 रेंज रोवर कार से चलते हैं आचार्य बालकृष्ण और आईफोन का करते हैं इस्तेमाल, जानें- कैसी है लाइफस्टाइल
3 इस शहर में सिर्फ एक घंटे की होगी 1,839 रुपये न्यूनतम मजदूरी, आने वाला है नया कानून, जानें- कहां कितनी
ये पढ़ा क्या?
X