ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ स्कीम के बाद भी भारत की जीडीपी में इंडस्ट्री का योगदान 20 साल में सबसे कम

इस तरह से देखें तो बीते 5 सालों में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की हिस्सेदारी जीडीपी में 2.5 फीसदी घट गई है। इस आंकड़े के साथ ही भारत एशिया के सबसे कम औद्योगिकीकरण वाले देशों में शामिल हो गया है।

narendra modiमैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की जीडीपी में घटी हिस्सेदारी

एक तरफ केंद्र की मोदी सरकार देश में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए तमाम उपाय कर रही है तो दूसरी तरफ मंदी के चलते सारे इरादों पर पानी फिरता दिख रहा है। सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को बढ़ावा देने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ स्कीम को लॉन्च किया था, लेकिन 2019 में भारत की जीडीपी में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की हिस्सेदारी में बड़ी कमी देखने को मिली है। भारत के मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की 2019 में जीडीपी मं 27.5 फीसदी की हिस्सेदारी रही है, जो बीते 20 सालों का सबसे निचला स्तर है। इससे पहले 2016 में यह औसत 29.3 फीसदी का था और 2014 में 30 फीसदी था।

इस तरह से देखें तो बीते 5 सालों में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की हिस्सेदारी जीडीपी में 2.5 फीसदी घट गई है। इस आंकड़े के साथ ही भारत एशिया के सबसे कम औद्योगिकीकरण वाले देशों में शामिल हो गया है। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की हिस्सेदारी के मामले में भारत से पीछे सिर्फ पाकिस्तान और नेपाल जैसे देश ही रह गए हैं। मेक इन इंडिया जैसे कैंपेन को आगे बढ़ाने के बाद भी ऐसी स्थिति पैदा होना चिंताजनक है। यह आंकड़े 2019 के हैं और देश की अर्थव्यवस्था को इस साल की पहली छमाही में बड़ी गिरावट का सामना करना पड़ा है। ऐसे में 2020 के आंकड़े और भी चिंताजनक हो सकते हैं।

बता दें कि मौजूदा वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में 23.9 फीसदी की गिरावट देखने को मिली थी। इससे पहले वित्त वर्ष 2019-20 में अर्थव्यवस्था को 4.2 फीसदी की गिरावट झेलनी पड़ी थी। हालांकि 2018-19 में भारतीय अर्थव्यवस्था की ग्रोथ 6.1 फीसदी थी। इस तरह से देखें तो भारतीय इकॉनमी बीते करीब डेढ़ साल से बड़ी गिरावट का सामना कर रही है। यही नहीं इस साल भारतीय इकॉनमी की ग्रोथ करीब 10 फीसदी की गिरावट का सामना कर सकती है।

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का अनुमान है कि फाइनेंशियल ईयर 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था को 10.3% की ग्रोथ का सामना करना पड़ सकता है। गौरतलब है कि 40 साल में पहली बार भारतीय अर्थव्यवस्था में 23.9 फीसदी की गिरावट के साथ जीडीपी में इतनी बड़ी कमी देखने को मिली है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जावा को लेकर आनंद महिंद्रा ने किया यह ऐलान, 90 साल बाद सच होगा मूल मलिक का सपना
2 पीएम किसान सम्मान निधि योजना के आवेदन में हुई चूक तो खुद ही घर बैठे यूं करें करेक्ट, जल्द आने वाली है नई किस्त
3 अपनी इन गलतियों की वजह से डूबते चले गए ‘रिटेल किंग’ किशोर बियानी, खुद बताया था कहां हुई चूक
यह पढ़ा क्या?
X