ताज़ा खबर
 

LPG सिलेंडर भरवाने को मिलेगा लोन? महंगाई की काट के लिए सरकार बना रही प्लान, उज्ज्वला स्कीम के लाभार्थी नहीं ले रहे थे सिलेंडर

Loan to LPG cylinder refilling: उज्ज्वला योजना के ग्राहकों को सिर्फ 50 से 100 रुपये में सिलेंडर भरवाने की सुविधा मिल सकेगी। इसके अलावा बाकी रकम तेल कंपनियां सब्सिडी के आने पर लेंगी।

सिलिंडर की डिलीवरी करता कर्मी।

LPG cylinders subsidy: एलपीजी सिलेंडरों की बढ़ती कीमत से राहत देने के लिए सरकार अब ग्राहकों को लोन देने पर भी विचार कर रही है। इस पॉलिसी के तहत उज्ज्वला योजना के ग्राहकों को सिर्फ 50 से 100 रुपये में सिलेंडर भरवाने की सुविधा मिल सकेगी। इसके अलावा बाकी रकम तेल कंपनियां सब्सिडी के आने पर लेंगी। उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों की ओर से दोबारा सिलेंडर लेने में रुचि नहीं दिखाई जा रही थी। कहा जा रहा था कि मौके पर सिलेंडर खरीदने के लिए ज्यादा रकम देनी पड़ती है, जिसकी कमी के चलते लोग सिलेंडर ही नहीं ले रहे। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए ही सरकार ने यह योजना बनाई है। हालांकि यह अभी शुरुआती स्तर पर ही है।

दरअसल सरकार घर-घर सिलेंडर पहुंचाने के लिए मोबाइल लिक्विफाइड पेट्रोलियम गैस स्कीम ला रही है। बिजनस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक इस स्कीम के साथ ही उज्ज्वला के लाभार्थियों के लिए लोन की सुविधा भी शुरू की जाएगी। अभी इस स्कीम के बारे में पूरी डिटेल नहीं मिल सकी है, लेकिन पेट्रोलियम मंत्रालय इस पर गंभीरता से विचार कर रहा है। बता दें कि पिछले दिनों भारतीय स्टेट बैंक की ओर से की गई एक रिसर्च में यह बात सामने आई थी कि करीब 25 पर्सेंट लाभार्थियों ने दोबारा सिलेंडर ही नहीं लिया। एसबीआई की ईकोरैप रिपोर्ट के मुताबिक एलपीजी सिलेंडरों की कीमतों में बढ़ोतरी के चलते ऐसा हो रहा है।

इस रिपोर्ट में सुझाव दिया गया था कि उज्ज्वला के लाभार्थियों सिलेंडरों के इस्तेमाल के लिए साल में कम से कम 4 सिलेंडर मुफ्त में दिए जाने चाहिए। हालांकि सूत्रों का कहना है कि मुफ्त सिलेंडरों की बजाय लोन की स्कीम को तेल एवं पेट्रोलियम गैस मंत्रालय ज्यादा मुफीद मान रहा है। इससे सरकार पर आर्थिक बोझ नहीं पड़ेगा और मौके पर ज्यादा रकम चुकाने के दबाव से भी ग्राहक मुक्त हो सकेंगे।

25 पर्सेंट लाभार्थियों ने दूसरा सिलेंडर नहीं लिया: दिल्ली के रेट की ही बात करें तो बीते 6 महीने में गैर-सब्सिडी वाले सिलेंडरों की कीमत 284 रुपये बढ़कर 859 हो गई है, जो पहले 575 रुपये थी। दिसंबर, 2018 तक उज्ज्वला स्कीम से जुड़े 5.92 करोड़ लाभार्थियों के डेटा के मुताबिक करीब 25 पर्सेंट ऐसे लोग रहे हैं, जिन्होंने दोबारा सिलेंडर नहीं भरवाया। इसके अलावा 18 पर्सेंट के करीब लोग ऐसे हैं, जिन्होंने दूसरा सिलेंडर लिया। 11.7 फीसदी ऐसे हैं, जिन्होंने तीसरा सिलेंडर भी लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 डेबिट और क्रेडिट कार्ड यूजर 16 मार्च से पहले जरूर करें ऑनलाइन पेमेंट, वरना खत्म हो जाएगी सुविधा
2 कंपनियों में बड़ी धोखाधड़ी की जांच करने वाली एजेंसी में संख्या बढ़ाने की तैयारी में मोदी सरकार
3 येस बैंक संकट: टॉप दस में से 6 कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 95,432 करोड़ रुपये घटा, रिलायंस को सबसे ज्यादा नुकसान