ताज़ा खबर
 

लोन की किस्तों में 6 महीने की छूट का विकल्प लेने से आपके कर्ज पर पड़ेगा क्या असर, जानिए डिटेल में पूरी बात

Loan EMI moratorium benefits and loss: इससे होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन समेत अन्य कई तरह के कर्ज लेने वाले लोगों को राहत मिलेगी। यदि आपने भी कोई टर्म लोन लिया है तो आपको यह सुविधा मिल सकती है।

जानें, लोन की ईएमआई में छूट लेने से कर्ज पर होगा क्या असर

भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से सभी तरह के टर्म लोन की किस्तों में छूट की अवधि को अब तीन महीने के लिए और बढ़ा दिया गया है। मार्च से लेकर मई तक के लिए दी गई यह छूट अब 31 अगस्त 2020 तक जारी रहेगी। इससे होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन समेत अन्य कई तरह के कर्ज लेने वाले लोगों को राहत मिलेगी। यदि आपने भी कोई टर्म लोन लिया है तो आपको यह सुविधा मिल सकती है। आइए जानते हैं, इस विकल्प को अपनाने से आपके लोन पर होगा क्या असर…

यदि आप इस विकल्प को अपनाते हैं तो इस दौरान लगने वाले ब्याज को अदा करने के लिए आपके पास तीन विकल्प होंगे।

मोराटोरियम की अवधि खत्म होने के बाद आप चाहें तो 6 महीने के बकाया ब्याज को आप एक साथ अदा कर सकते हैं।

एक विकल्प यह भी है कि आप बकाया ब्याज की रकम को लोन में ही जुड़वा लें। इससे भविष्य में आपको किस्तों के तौर पर अधिक रकम चुकानी होगी।

तीसरा और अंतिम विकल्प यह है कि आप बकाया ब्याज को चुकाने के लिए लोन की अवधि को ही बढ़वा लें।

आइए जानते हैं, लोन की किस्तें चुकाने में छूट के विकल्प को अपनाने पर आपको होंगे क्या नुकसान और फायदे

यदि आपने 30 लाख रुपये का लोन 20 साल के लिए लिया है और उस पर हर महीने 8 फीसदी ब्याज दर के साथ 25,093 रुपये की किस्त हर महीने चुकाते हैं तो फिर उस पर क्या असर होगा। आइए जानते हैं-

जानें, लोन 5 साल बचा होने पर होगा क्या असर: यदि आपका 5 साल का लोन बचा है तो फिर 6 महीने तक किस्तों में छूट लेने पर आपको अतिरिक्त 49,500 रुपये ब्याज देना होगा। आप इस रकम को एक साथ अदा कर सकते हैं और यदि इस रकम को आप किस्तों में ही जोड़ना चाहते हैं तो फिर हर महीने 1,004 रुपये अतिरिक्त देने होंगे। वहीं आप इस ब्याज की रकम को किस्तों में न चुकाकर संख्या बढ़ाना चाहते हैं तो फिर आपको दो अतिरिक्त किस्तें देनी होंगी।

10 साल बचे हैं तो देनी होंगी तीन और किस्तें: यदि आपके लोन की अदायगी में 10 साल बचे हैं तो फिर 6 महीने तक किस्तों में छूट लेने पर आपको अतिरिक्त 82,728 रुपये ब्याज देना होगा। आप इस रकम को एक साथ अदा कर सकते हैं और यदि इस रकम को आप किस्तों में ही जोड़ना चाहते हैं तो फिर हर महीने 1,004 रुपये अतिरिक्त देने होंगे। वहीं आप इस ब्याज की रकम को किस्तों में न चुकाकर संख्या बढ़ाना चाहते हैं तो फिर आपको तीन अतिरिक्त किस्तें देनी होंगी।

क्‍लिक करें Corona Virus, COVID-19 और Lockdown से जुड़ी खबरों के लिए और जानें लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 7th Pay Commission: केंद्रीय मंत्रालयों, विभागों में पक्की नौकरी न करने वाले कर्मचारियों को भी लॉकडाउन में मिलेगी पूरी सैलरी, माना जाएगा ऑन ड्यूटी
2 अमेजॉन ने निकाली 50,000 लोगों की मेगा भर्ती, कोरोना से आई मंदी के बीच कंपनी ने लिया बड़ा फैसला
3 सैलरी में कटौती के बाद भी पहले की तरह कट सकता है टैक्स? बचना है तो रखें इन बातों का ध्यान