Bachat Plus: बड़े काम की LIC की नई योजना, जानिए इसके फीचर्स और फायदे

LIC of India launches Bachat Plus: LIC की बचत प्लस योजना में कम से कम एक लाख रुपये की पॉलिसी ली जा सकती है। अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है।

lic, lic of india, Bachat Plusनई योजना का नाम बचत प्लस है। (Photo-indian express )

LIC of India launches Bachat Plus: भारतीय जीवन बीमा निगम की ओर से एक बार फिर नई योजना की शुरुआत की गई है। इस नई योजना का नाम बचत प्लस है। योजना की कई खास बाते हैं। आइए, इसकी डिटेल जानते हैं..

क्या है खास बातें: एलआईसी की बचत प्लस योजना में कम से कम एक लाख रुपये की पॉलिसी ली जा सकती है। अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है। इस योजना में पॉलिसीधारक को लोन लेने की सुविधा भी मिलती है। बचत प्लस योजना की मैच्योरिटी अवधि पांच साल है। वहीं, पॉलिसी अवधि के दौरान पॉलिसीधारक की मृत्यु होती है तो इस परिस्थिति में उसके परिजन को एलआईसी वित्तीय समर्थन उपलब्ध कराती है।

वहीं, स्थिति सामान्य रहने पर मैच्योरिटी के बाद पॉलिसीधारक को एक मुश्त राशि मिलती है। पॉलिसीधारक के लिए मासिक किस्त 5 हजार रुपये तय की गई है। वहीं, तिमाही के लिए 15 हजार रुपये की किस्त, छमाही के लिए 25 हजार रुपये और सालाना 50 हजार रुपये की किस्त तय की गई है। एलआईसी की इस पॉलिसी के बारे में डिटेल विस्तृत जानकारी के लिए लिंक को क्लिक कर सकते हैं।

सरेंडर के नियम: अगर आप पॉलिसी को मैच्योरिटी से पहले सरेंडर करना चाहते हैं तो पहले पॉलिसी वर्ष में सिंगल प्रीमियम की 75 फीसदी रकम मिलेगी। इसके बाद सरेंडर करने पर सिंगल प्रीमियम की 90 फीसदी रकम मिल जाएगी।

बीमा ज्योति स्कीम:  आपको बता दें कि एक महीने के भीतर एलआईसी की ये दूसरी नई पॉलिसी है। हाल ही में एलआईसी ने बीमा ज्योति स्कीम की शुरुआत की थी। यह एक नॉन-लिंक्ड, नॉन-पार्टिसिपेटिंग, इंडिविजुअल सेविंग्स प्लान है। इस पॉलिसी की मिनिमम एंट्री एज 90 दिन है जबकि अधिकतम 60 वर्ष तक की उम्र के लोगों के लिए स्कीम है।

प्रीमियम का भुगतान मासिक, तिमाही, छमाही और सालान आधार पर किया जा सकता है। मासिक प्रीमियम का भुगतान NACH (नेशनल ऑटोमेटेड क्लीयिरिंग हाउस) या सैलरी डिडक्शन के जरिए किया जा सकता है।

इस पॉलिसी को ऑफलाइन एलआईसी एजेंट या ऑनलाइन एलआईसी की वेबसाइट के जरिए खरीदा जा सकता है। इस स्कीम में भी लोन की सुविधा मिलती है। इसमें न्यूनतम सम एश्योर्ड 1 लाख रुपये है। इस स्कीम में हर साल 50 रुपये प्रति हजार का गारंटीड रिटर्न मिलेगा।

Next Stories
1 2012 में मुकेश अंबानी की कंपनी ने छोड़ा था पाइपलाइन बिछाने का प्रोजेक्ट, अब PAC ने संसद में दी रिपोर्ट
2 मोदी सरकार ने रक्षा क्षेत्र की 6 कंपनियों में बेची हिस्सेदारी, 5 साल में जुटाए 26 हजार करोड़ रुपये
3 रतन टाटा ने लगाया एक और बिजनेस में पैसा, जानिए रिटायरमेंट के बाद कहां करते रहे हैं निवेश
यह पढ़ा क्या?
X