scorecardresearch

एलआईसी के कैंसर कवर प्लान में सिर्फ 7 रुपये रोजाना के निवेश पर पाएं 10 लाख रुपये की मदद, जानें- क्या हैं फायदे और नियम

LIC Cancer Cover plan: एलआईसी का कैंसर कवर प्लान रेगुलर प्रीमियम प्लान है। इसके तहत आपको बीमे की किस्त सालाना या छमाही तौर पर अदा करनी होगी। बीमे की अवधि 10 से 30 साल तक की होगी।

lic
एलआईसी कैंसर कवर प्लान
LIC Cancer Cover plan: भारत समेत दुनिया भर में जिस तरह से कैंसर पैर पसार रहा है, उस स्थिति में जीवन की अनिश्चितता बढ़ गई है। यह बीमारी जीवन के लिए तो एक कठिन चुनौती होने के अलावा पूरे परिवार के लिए बड़े आर्थिक संकट का कारण भी बनती है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए भारतीय जीवन बीमा निगम एलआईसी कैंसर कवर प्लान देता है। आइए जानते हैं, क्या हैं इस स्कीम के फायदे और कितने निवेश की है जरूरत…

कम से कम 10 साल की अवधि: एलआईसी का कैंसर कवर प्लान रेगुलर प्रीमियम प्लान है। इसके तहत आपको बीमे की किस्त सालाना या छमाही तौर पर अदा करनी होगी। बीमे की अवधि 10 से 30 साल तक की होगी। इस पॉलिसी को ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीदा जा सकता है। इसके तहत दो प्लान दिए गए हैं, जिन्हें आप अपनी सुविधा के मुताबिक खरीद सकते हैं।

10 लाख रुपये का तय बीमा कवर: यह पहला प्लान है, जिसके तहत आप 10 लाख रुपये का बीमा कवर पाएंगे। बीमे की शुरुआत में ही यह रकम फिक्स हो जाएगी और किसी भी स्थिति में इससे अधिक राशि नहीं मिलेगी।

दूसरे प्लान में हर साल बढ़ेंगे 1 लाख: पॉलिसी के इस दूसरे विकल्प के तहत शुरुआत के 5 सालों में हर साल पॉलिसी में 1 लाख रुपये का इजाफा हो जाएगा यानी अगले 5 साल बाद 10 लाख रुपये वाली पॉलिसी 15 लाख की हो जाएगी। हालांकि यदि बीच में पॉलिसी होल्डर को कैंसर पाया जाता है तो आगे इसमें इजाफा नहीं होगा। मान लीजिए पॉलिसी होल्डर को तीसरे साल में कैंसर पाया जाता है तो फिर पॉलिसी 12 लाख रुपये पर ही सीमित हो जाएगी।

शुरुआती कैंसर में कितनी रकम: यदि इंश्योरेंस होल्डर को अर्ली स्टेज का कैंसर पाया जाता है तो बीमा पॉलिसी के तहत कुल बीमे की 25 फीसदी रकम एलआईसी की ओर से दी जाएगी। इसके अलावा अगले तीन साल या फिर बचे हुए प्रीमियम, जो भी कम होगा, में छूट दी जाएगी।

मेजर स्टेज कैंसर कवर: यदि कैंसर की बीमारी का मेजर स्टेर पर पता चलता है तो बीमे की पूरी रकम एलआईसी की ओर से दी जाएगी, जो इलाज के लिए अहम साबित हो सकती है। हालांकि यदि शुरुआती बीमारी के दौरान आपने कोई क्लेम लिया है तो फिर उस हिस्से को काटकर दिया जाएगा। इसके अलावा आगे कोई भी किस्त नहीं देनी होगी।

20 साल की उम्र से कर सकते हैं शुरू: इस स्कीम की शुरुआत कम से कम 20 साल और अधिकतम 65 साल की उम्र में की जा सकती है। इस पॉलिसी की मिनिमम टर्म 10 साल और अधिकतम टर्म 30 साल तय की गई है। कम से कम 50 साल और अधिकतम 75 साल की आयु में इसकी पॉलिसी समाप्त होगी।

सिर्फ 7 रुपये रोजाना का खर्च: अब प्रीमियम की बात की जाए तो कम से कम 2,400 रुपये सालाना की प्रीमियम पर इस स्कीम को लिया जा सकता है, जो 10 साल लाख रुपये का बीमा कवर देती है। इसे साल के दिनों के हिसाब से जोड़ें तो प्रतिदिन 6.5 रुपये ही हुआ। इस प्लान के तहत कोई भी मेच्योरिटी बेनेफिट नहीं है। इसके अलावा डेथ बेनेफिट जैसी कोई सुविधा भी नहीं है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

पढें व्यापार (Business News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट