ताज़ा खबर
 

LIC का दबदबा, 31.11 लाख करोड़ रुपये की संपत्ति जुटाई

वर्ष 1956 में एलआईसी ने 168 कार्यालयों से काम शुरू किया था। वर्तमान में उसके 4,851 से अधिक कार्यालय हैं। कंपनी के पास एक लाख से अधिक कर्मचारी, 11.79 लाख एजेंट और 29.09 करोड़ से अधिक पॉलिसियां हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की परिसंपत्तियां बढ़कर 31.11 लाख करोड़ रुपये हो गयी। इसमें सबसे अहम योगदान व्यक्तिगत कारोबार के तहत उसकी 32 बीमा योजनाओं का है। कंपनी ने रविवार को अपने स्थापना दिवस के मौके पर एक बयान में बताया कि कारोबार वृद्धि से जुलाई 2019 के अंत तक उसकी बाजार हिस्सेदारी बढ़कर 73.1 प्रतिशत हो गयी। बयान में कहा गया है कि कंपनी ने 1956 में पांच करोड़ रुपये की शुरुआती पूंजी से कारोबार शुरू किया था। अब उसकी परिसंपत्तियां 31,11,847.28 करोड़ रुपये से अधिक हैं जिसमें से 28,28,320.12 करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां जीवन बीमा से जुड़ी हैं।

वर्ष 1956 में एलआईसी ने 168 कार्यालयों से काम शुरू किया था। वर्तमान में उसके 4,851 से अधिक कार्यालय हैं। कंपनी के पास एक लाख से अधिक कर्मचारी, 11.79 लाख एजेंट और 29.09 करोड़ से अधिक पॉलिसियां हैं। वित्त वर्ष 2018-19 में कंपनी ने पहले साल के प्रीमियम के आधार पर नए कारोबार में 5.68 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की थी।

भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने कुछ वक्त पहले नवजीवन नाम से एक प्लान लॉन्च किया था। यह एक प्रॉफिट एंडावमेंट एश्योरेंस के साथ नॉन-लिंक्ड प्लान है। यानी इस योजना (प्लान संख्या-853) में जीवन सुरक्षा की सुविधा देने के साथ ठीक-ठाक बचत भी हो जाती है। ऊपर से पॉलिसीधारक को टैक्स में छूट, मैच्योरिटी बेनिफिट से लेकर डेश इंश्योरेंस तक का लाभ भी मिलता है। यही नहीं, पॉलिसी धारक को इस प्लान के तहत प्रीमियम एकमुश्त या फिर सीमित (पांच साल का समयकाल) तरीके से चुकाने का विकल्प मिलता है। अच्छी बात है कि इसे ऑफलाइन के अलावा ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है।

भाषा के इनपुट के साथ।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 SBI ग्राहकों के लिए जल्द ही लॉन्च होगा RuPay क्रेडिट कार्ड
2 अनिल अंबानी की Reliance Power बांग्लादेश को अगले 22 साल तक देगी बिजली
3 RCom की संपत्ति बेचकर भी 49,000 करोड़ में से 20 फीसदी ही कर्ज चुका पाएंगे अनिल अंबानी, बिक्री में देर हुई तो और कम मिलेगी रकम
ये पढ़ा क्या...
X