ताज़ा खबर
 

अमेरिकी कर्मचारियों की जगह भारतीयों को रखने पर डिजनी के ख़िलाफ़ मुकदमा

इससे पहले, फ्लोरिडा के संघीय न्यायाधीश ने पूर्व आईटी कर्मचारियों की छंटनी को लेकर दो मुकदमों को खारिज कर दिया था।

Author वॉशिंगटन | December 15, 2016 17:30 pm
वॉल्ट डिजनी वर्ल्ड रेसोर्ट का प्रवेश द्वार। (फोटो-विकिपीडियाः

डिजनी के पूर्व आईटी कर्मचारियों ने अमेरिका के फ्लोरिडा राज्य में ताजा मुकदमा दायर किया है। उनका दावा है कि कंपनी ने उन्हें नौकरी से हटाकर उनकी नौकरी भारतीय कर्मचारियों को दे दी गयी जिन्हें एच-1बी वीजा पर लाया गया था। पूर्व कर्मचारियों की तरफ से सामूहिक मुकदमे में डिजनी पर सूचना प्रौद्योगिकी कर्मचारियों की छंटनी का आरोप लगाया गया है। यह छंटनी पूरी तरह उनकी ‘राष्ट्रीयता और नस्ल’ के आधार पर की गयी और उनकी नौकरियों को भारतीय कर्मचारियों को दे दिया गया। इसमें कहा गया है कि इतना ही नहीं उन्हें अपनी जगह नियुक्त हुए कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने के लिये बाध्य कर अपमानित भी किया गया। शिकायत के अनुसार डिजनी ने 250 ओरलैंडो आईटी कर्मचारियों को अक्तूबर 2014 में सूचित किया कि उन्हें 90 दिनों के भीतर नौकरी से निकाल दिया जाएगा।

न्यूयॉर्क डेली न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने उनकी जगह दूसरे लोगों को नौकरी दी। इनमें से कई अमेरिका में एच-1बी वीजा के जरिये आये। अदालत में दाखिल दस्तावेज के अनुसार ये सभी भारतीय मूल के हैं। इससे पहले, फ्लोरिडा के संघीय न्यायाधीश ने पूर्व आईटी कर्मचारियों की छंटनी को लेकर दो मुकदमों को खारिज कर दिया था। न्यायाधीश ने व्यवस्था दी कि डिजनी और उसके दो आउटसोर्सिंग ठेकेदारों ने रोजगार दूसरे को देने में नियमों का कोई उल्लंघन नहीं किया। डिजनी ने एक बयान में कहा, ‘जिस प्रकार दो अन्य मामले खारिज हुए हैं, ताजा मुकदमा भी बकवास है और हम अपने पक्ष का पुरजोर तरीके से बचाव करेंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App