ताज़ा खबर
 

ईपीएफ पर ब्याज दर 8.8% ही रखना चाहता है श्रम मंत्रालय

इसी साल वित्त मंत्रालय ने 2015-16 के लिए ईपीएफ ब्याज दर को घटाकर 8.7 प्रतिशत कर दिया था हालांकि सीबीटी ने इसके लिए 8.8 प्रतिशत को मंजूरी दी थी।

Author नई दिल्ली | December 15, 2016 6:07 PM
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ)

श्रम मंत्रालय 2016-17 में ईपीएफओ के चार करोड़ से अधिक अंशधारकों को ईपीएफ जमाओं पर ब्याज दर 8.8 प्रतिशत पर ही कायम रखने पर जोर दे रहा है। मंत्रालय इसको लेकर वित्त मंत्रालय को भी सहमत करना चाहता है। सूत्रों ने बताया कि श्रम मंत्रालय इस मुद्दे पर वित्त मंत्रालय की अनौपचारिक सहमति लेना चाह रहा है। ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की बैठक सोमवार (19 दिसंबर) को होनी है जिसमें ब्याज दर का मुद्दा भी एजेंडे में है। उल्लेखनीय है कि इसी साल वित्त मंत्रालय ने 2015-16 के लिए ईपीएफ ब्याज दर को घटाकर 8.7 प्रतिशत कर दिया था हालांकि सीबीटी ने इसके लिए 8.8 प्रतिशत को मंजूरी दी थी।

बाद में श्रमिक यूनियनों के विरोध के चलते सरकार को अपने फैसले से पलटना पड़ा और ब्याज दर 8.8 प्रतिशत पर ही रखने का फैसला किया। श्रम मंत्रालय नहीं चाहता कि ऐसी स्थिति फिर आए इसलिए वह वित्त मंत्रालय की अनौपचारिक अनुमति पहले ही लेना चाहता है। सूत्रों का कहना है कि श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने हाल ही में इस बारे में वित्त मंत्री अरुण जेटली व वित्त राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल से मुलाकात की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App