ताज़ा खबर
 

जानिए पेमेंट बैंकों से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण सुविधाओं-सेवाओं के बारे में

रिजर्व बैंक ने 11 कंपनियों को पेमेंट बैंक शुरू करने की मंजूरी दी थी। जानते इनसे जुड़ी सुविधाओं के फायदों के बारे में।

Author January 17, 2017 3:15 PM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर। (फाइल फोटो)

नोटबंदी के बाद ई-बैंकिंग सेवाओं में जबरदस्त उछाल देखा गया है। कैश की कमी के चलते लोग अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड से या फिर ई-वॉलेट के जरिए पेमेंट्स कर रहे हैं। वहीं रिजर्व बैंक ने 11 कंपनियों को पेमेंट बैंक शुरू करने की मंजूरी दी थी। वहीं जमा राशि पर अमूमन ये बैंक लगभग 7 फीसद की दर से ब्याज देते हैं। पेमेंट बैंक आम बैंकों से काफी अलग होते हैं। वह इनकी स्थापन के पीछे आरबीआई का मकसद आम आदमी को आसानी लेनदेन करने की सुविधा देने का है। वहीं जानते हैं कि पेमेंट बैंकों से आप किन सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं।

स्मॉल डिपोजिट अकाउंट- पेमेंट्स बैंक के जिरए आप डिमांड डिपोजिट्स और सेविंग बैंक डिपोजिस्ट्स के जरिए पेमेंट्स किसी शख्स, एंटिटीज या छोटी फर्मों से ले सकते हैं। वहीं पेमेंट की एक अधिकतम लिमिट है जो एक लाख रुपये की है। इसके अलावा पेमेंट्स बैंकों में आप किसी एनआरआई द्वारा डिपोजिट्स नहीं ले सकते।

एटीएम/डेबिट कार्ड्स- पेमेंट बैंक ग्राहकों को सिर्फ एटीएम/डेबिट कार्ड की सुविधा हीस दे सकते हैं। आरबीआई की निर्देशों के मुताबकि पेमेंट बैंक क्रेडिट कार्ड जारी नहीं कर सकते, क्योंकि वह लोन कारोबार की श्रेणी में नहीं आते।

पेमेंट एंड रेमिटेंस सर्विस- पेमेंट्स बैंक ब्रांच, एटीएम, बिजनेस कॉरेस्पोंडेंस, मोबाइल बैंकिंग और पीओएस मशीनों के जरिए तय की गई गाइडलाइन्स के मुताबिक पेमेंट्स ट्रांस्फर कर सकते हैं। वहीं बिलों का भुगतान भी इनके जरिए किया जा सकता है।

क्रॉस-बॉर्डर सर्विस- पेमेंट बैंक द्वारा आप विदेश से पेमेंट्स नहीं ले सकते, लेकिन क्रॉस-बॉर्डर रेमिटेंस सर्विस के जरिए नेपाल जैसे क्रॉस बॉर्डर देशों से पेमेंट्स लेने की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। वहीं इसके लिए आपको आरबीआई से पहले इजाजत लेनी पड़ेगी।

इंटरनेट बैंकिंग- पेमेंट्स बैंक इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा भी देंगे। आरबीआई द्वारा तय की गई गाइडलाइन्स के मुताबिक पेमेंट बैंक ऑनलाइन ट्रांस्फर जैसी RTGS/NEFT/IMPS सुविधाएं भी मुहैया कराएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App