ताज़ा खबर
 

सदी के सबसे बड़े दानवीर साबित हुए जमशेदजी टाटा, बिल गेट्स जैसे बड़े अरबपतियों को भी पछाड़ा

हुरुन रिपोर्ट और एडेलगिव फाउंडेशन की तरफ से दुनिया के शीर्ष 50 दानवीरों की सूची तैयार की गई है। इस सूची में शीर्ष पर भारत के दिग्गज उद्योगपति जमशेदजी टाटा हैं।

पिछली सदी में जमशेदजी टाटा ने 102 अरब अमेरिकी डॉलर दान दिए (Photo-Tata.com )

नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक बनाने वाले कारोबारी समूह टाटा के संस्थापक जमशेदजी टाटा (Jamsetji Tata) पिछली सदी के सबसे बड़े दानवीर बनकर उभरे हैं। इसी के साथ जमशेदजी टाटा ने दान के मामले में अमेरिका के बिल गेट्स और वॉरेन बफे जैसे बड़े कारोबारियों को पछाड़ दिया है।

102 अरब अमेरिकी डॉलर दान दिए: दरअसल, हुरुन रिपोर्ट और एडेलगिव फाउंडेशन की तरफ से दुनिया के शीर्ष 50 दानवीरों की सूची तैयार की गई है। इस सूची में शीर्ष पर भारत के दिग्गज उद्योगपति जमशेदजी टाटा हैं। रिपोर्ट के मुताबिक पिछली सदी में जमशेदजी टाटा ने 102 अरब अमेरिकी डॉलर दान दिए थे। इस वजह से वह सदी यानी 100 साल के सबसे बड़े दानवीर बन गए हैं।

हुरुन अध्यक्ष और मुख्य शोधकर्ता रूपर्ट हुगवेर्फ ने मीडिया से बातचीत में जमशेदजी टाटा का जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘‘भले ही अमेरिकी और यूरोपीय लोग पिछली शताब्दी में परोपकार की सोच के लिहाज से हावी रहे हों, लेकिन भारत के टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा दुनिया के सबसे बड़े परोपकारी व्यक्ति हैं।’’

अजीम प्रेमजी भी दानवीरों की लिस्ट में: टॉप-50 दानवीरों की इस लिस्‍ट में एक और भारतीय शामिल है, जिनका नाम अजीम प्रेमजी है। आईटी कंपनी विप्रो के मुखिया अजीम प्रेमजी ने अपनी संपूर्ण 22 अरब डॉलर की संपत्ति को परोपकार के लिए दान में दिया है।

टॉप-50 की लिस्‍ट में 38 लोग अमेरिका से: इस सूची बिल गेट्स और उनकी पूर्व पत्नी मेलिंडा का भी नाम है। पिछली सदी में इन्होंने 74.6 अरब डॉलर दान किए हैं। इस सूची में निवेशक वॉरेन बफे (37.4 अरब डॉलर), जॉर्ज सोरोस (34.8 अरब डॉलर) और जॉन डी रॉकफेलर (26.8 अरब डॉलर) के नाम शामिल हैं। आपको यहां बता दें कि टॉप-50 दानदाताओं की लिस्‍ट में 38 लोग अमेरिका से हैं। इसके बाद ब्रिटेन का स्‍थान है, जहां के 5 लोग इस लिस्‍ट में शामिल हैं। चीन तीन नामों के साथ तीसरे स्‍थान पर है।

इन 50 दानदाताओं द्वारा पिछली एक शताब्‍दी में कुल 832 अरब डॉलर का दान दिया गया है। इसमें 503 अरब डॉलर संस्थागत दान और 329 अरब डॉलर निजी चंदे व्यक्तिगत दान से आया है। हालांकि, पिछली सदी के टॉप-50 दानदाताओं की लिस्‍ट में अल्‍फ्रेड नोबल जैसे कुछ नाम नहीं हैं।

Next Stories
1 इस सरकारी कंपनी के विलय को कैबिनेट ने दी मंजूरी, सरकार ने गिनाए फायदे
2 मुकेश अंबानी के समधी का एक और दांव, 775 करोड़ रुपये में खरीदी ये कंपनी
3 कम ब्याज से निराश हुए निवेशक! छोटी बचत योजनाओं की बजाए चुन रहे ये विकल्प
ये पढ़ा क्या?
X