ताज़ा खबर
 

ITR Filing 2019: आयकर रिटर्न भरने की ये है अंतिम तारीख, जानें क्या है तरीका

ITR Filing Last Date 2019, Income Tax Return Filing Last Date: बजट भाषण में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आधार के जरिए भी आईटीआर भरने का प्रस्ताव रखा।

income tax, salaried employees, consultants, standard deduction, tax is deducted at source, transport allowance, exemptions available to a consultant, Budget 2019, finance minister, forthcoming budget, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi(प्रतीकात्मक फोटो)

ITR Filing Last Date 2019: वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न (ITR) दाखिल करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई है। हाल के बजट भाषण में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आधार के जरिए भी आईटीआर भरने का प्रस्ताव रखा। इससे उन लोगों को फायदा होगा जिनके पास पैन कार्ड नहीं है। हालांकि यह प्रस्ताव 1 सितंबर से लागू होगा।

वित्त मंत्री ने कहा था कि “120 करोड़ से अधिक भारतीयों के पास अब आधार कार्ड्स हैं। ऐसे में करदाताओं को आसानी हो, इसलिए मैं प्रस्ताव रखती हूं कि पैन कार्ड और आधार कार्ड को इंटरचेंजेबल बनाया जाए और जिनके पास पैन कार्ड नहीं है, उन्हें आसानी से केवल आधार कार्ड नंबर के जरिए आईटीआर फाइल करने का मौका दिया जाए। जहां भी उन लोगों को पैन की जरूरत पड़े, वे उसकी जगह पर आधार इस्तेमाल कर सकें।”

मालूम हो कि सरकार ने इससे पहले 1 अप्रैल 2019 से आधार को पैन कार्ड से लिंक करना अनिवार्य कर दिया था। आइए जानते हैं आईटीआर फाइल करने से जुड़ी अन्य मुख्य बातें क्या हैं जिन्हें जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।

आईटीआर 1: वे आयकरदाता जिनकी सैलरी, एक घर की संपत्ति, अन्य स्रोत (ब्याज आदि) और 50 लाख तक की कुल आय हो वे ऑनलाइन और ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं। 50 लाख तक की आय तो भरें आईटीआर-1।

आईटीआर 2: ऐसे व्यक्तिगत और एचयूएफ आयकरदाता जो किसी भी प्रोपराइटरशिप के अंडर में व्यवसाय या पेशा नहीं करते हो। वे सिर्फ ऑनलाइन आवेदन ही कर सकते हैं।

आईटीआर 3: ऐसे व्यक्तिगत और एचयूएफ आयकरदाता जिनकी किसी प्रोपराइटरशिप व्यवसाय या प्रोफेशन से आय हो। उनको ऑनलाइन सर्विस की सुविधा है।

आईटीआर 4: व्यवसाय या पेशे से प्रकल्पित आय वाले आयकरदाता इस फॉर्म को ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों माध्यमों से फाइल कर सकता है।

आईटीआर 5: व्यक्तिगत, एचयूएफ, कंपनी और आईटीआर-7 फाइल करने वाले आयकरदाताओं के अलावा जो भी लोग हैं वो आईटीआर- 5 के जरिए रिटर्न फाइल कर सकते हैं।

आईटीआर 6: ऐसी कंपनियां जो सेक्शन 11 की छूट से बाहर हो।

आईटीआर 7: ऐसे सभी आयकरदाता जिन्हें सेक्शन 139(4ए), 139(4बी), 139(4सी), 139(4डी), 139(4ई) या 139(4एफ) के अंतर्गत रिटर्न फाइल करना है वे इस फॉर्म का इस्तेमाल करें।

आयकर विभाग ने ऑनलाइन इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की प्रक्रिया को सरल बनाया है। इनकम टैक्स रिटर्न ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से फाइल किया जा सकता है। आपको बता दें कि 5 लाख रुपये से ज्यादा आय वालों के लिए ऑनलाइन आईटीआर फाइल करना अनिवार्य है। हम आपको बताते हैं कि कैसे आप ऑनलाइन आईटीआर फाइल कर सकते हैं।

ये है तरीका: –

स्टेप 1: ई-फिलिंग वेबसाइट (e-Filing website) पर यूजर आईडी, पासवर्ड, डेट ऑफ बर्थ /निगमन की तारीख के साथ लॉगिन करें और ई-फाइल में कैप्चा कोड दर्ज करें।

स्टेप 2: ई-फाइल पर जाएं और “Prepare and Submit ITR Online” पर क्लिक करें।

स्टेप 3: इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म ITR 1/ITR 4S और असेसमेंट ईयर सेलेक्ट करें।

स्टेप 4: अब मांगी गई डिटेल्स को भरे और “Submit” बटन पर क्लिक कर दें।

स्टेप 5: डिजिटल सिगनेचर सर्टिफिकेट (डीएससी) अपलोड करें, यदि लागू हो।

स्टेप 6: “Submit” बटन पर क्लिक करें।

आयकर अधिकारी सोशल मीडिया पोस्ट की जासूसी नहीं करते: अगर आपको लगता है कि आयकर अधिकारी आपकी अघोषित आय की जांच के लिए सोशल मीडिया पोस्ट की जासूसी करते हैं, उनके विदेशों में घूमने और महंगी खरीदारी की फोटो पर निगरानी रखते हैं, तो यह गलत धारणा है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के चेयरमैन पी. सी. मोदी का यह कहना है। मोदी ने एक साक्षात्कार के दौरान कहा कि कर विभाग को इस तरह के तौर-तरीके अपनाने की जरूरत नहीं, क्योंकि विभाग के पास बड़े लेनदेन से जुड़े आंकड़े विभिन्न एजेंसियों से आते हैं और उसके पास आंकड़ों का विश्लेषण करने की एक सुदृढ़ व्यवस्था है। इस वजह से ऐसे लेनदेन के स्रोत और जगह की जानकारी उसे मिल जाती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Suzuki Burman Street और Access 125: बिना एक पैसा दिए घर ला सकते हैं ये स्कूटी, जानिए ऑफर
2 7th Pay Commission: केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को दिए बचत के नए मौके- ‘टैक्स में राहत, बुढ़ापे में सहारा’
3 मोदी सरकार ने एकबार फिर आम जनता को दिया झटका, खुदरा मुद्रास्फीति जून में बढ़कर 3.18 प्रतिशत हुई
ये पढ़ा क्या?
X