ताज़ा खबर
 

IRCTC: इंडियन रेलवे देगी नई सुविधा, सस्ते में पढ़ सकेंगे पत्रिकाएं

ट्रेनों में यात्रा करने वाले लोग दुनिया भर की पत्रिकाओं और समाचार पत्रों को रियायती दर पर आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर रियायती दरों पर पढ़ सकेंगे।

Author Updated: February 6, 2019 12:06 PM
प्रतीकात्मक फोटो (फाइल)

ट्रेनों में यात्रा करने वाले लोग दुनिया भर की पत्रिकाओं और समाचार पत्रों को रियायती दर पर आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर रियायती दरों पर पढ़ सकेंगे। रेलवे ने प्रमुख डिजिटल न्यूजस्टैंड मैगज्टर के साथ इस संबंध में करार किया है। एक बयान में कहा गया है कि इस भागीदारी के तहत यात्री एक विशिष्ट पेशकश के तहत दुनिया भर की 5,000 से अधिक समाचार पत्र और पत्रिकाओं को अपने फोन या टैबलेट पर पढ़ सकेंगे।  बयान में कहा गया है कि ये पत्रिकाएं 40 से अधिक श्रेणियों मसलन वाहन, कारोबार, कॉमिक्स, शिक्षा, मनोरंजन,फैशन, फिटनेस, लाइफस्टाइन, समाचार, राजनीति, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और यात्रा से संबंधित क्षेत्रों की हैं। बयान में कहा गया है कि आईआरसीटीसी उपयोगकर्ता विभिन्न अवधि के पैक चुन सकते हैं। इसमें 20 रुपये में एक दिन से लेकर 499 रुपये में साल भर और अनलिमिडेट पैक शामिल होंगे।

इससे पहले भी भारतीय रेलवे ने तमाम तरह की सुविधाएं लागू की हैं। यात्रियों की सुरक्षा के लिए चलती ट्रेनों में रेलवे सुरक्षा बल के जवान मौजूद रहते हैं। आपात स्थिति से निपटने के लिए स्टेशन पर एंबुलेंस व अन्य सेवाएं उपलब्ध करवाई जाती है। यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेलवे सुरक्षा बल का गठन किया गया। यात्रा के दौरान सुरक्षा में किसी तरह की परेशानी, छेड़खानी, चोरी, डकैती जैसी घटनाओं को रोकने के लिए आरपीएफ जवान चलती ट्रेनों में मौजूद रहते हैं। यदि कभी आपको यात्रा के दौरान असुरक्षा महसूस हो तो तत्काल जीआरपी के हेल्प लाइन नंबर 1512, सिक्योरिटी हेल्पलाइन नंबर 182 पर कॉल कर सकते हैं। वहीं, @RailMinlndia के टि्वटर अकाउंट पर ट्वीट कर भी शिकायत दर्ज की जा सकती है।

अब बात मेडिकल सुविधा की करते हैं। यदि यात्रा के दौरान अचानक किसी मेडिकल सर्विस की जरूरत पड़ जाए तो घबराने की जरूरत नहीं है। ट्रेन के सुपरीटेंडेंट, गार्ड्स या पैंट्रीकार मैनेजर के पास फर्स्ट एड बॉक्स रहता है। किसी आपातकालीन स्थिति में आप ट्रेन में चल रहे टिकट निरीक्षक से बात करें। वे तत्काल सुविधा उपलब्ध करवाने की कोशिश करेंगे। जरूरत पड़ने पर वे आगामी स्टेशन पर फोन कर स्टेशन मास्टर की सहायता से मेडिकल सुविधा उपलब्ध करवाने का काम करेंगे। अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में यात्री अपनी यात्रा को स्थगित कर सकते हैं।

Next Stories
1 प्रत्यर्पण के आदेश को चुनौती देने की तैयारी में भगोड़ा विजय माल्या
2 रिपोर्टः बैंकों ने 3.5 लाख करोड़ के कॉरपोरेट लोन को अब तक घोषित नहीं किया NPA
3 देश के कई वक्फ बोर्ड ने नहीं चुकाया जीएसटी, भेजे गए नोटिस
ये पढ़ा क्या?
X