ताज़ा खबर
 

IRCTC से रेलमंत्री ने कहा- ट्रेनों में जोड़ें एयरकंडीशंड पैंट्री कार, यात्रियों को बेहतर सेवा देने के लिए दिए कई और निर्देश

IRCTC, Indian Railway: लगभग 400 पेंट्री कार पूरे रेलवे नेटवर्क में लंबी दूरी की ट्रेनों से जुड़ी हैं। साल 2015 में भारतीय रेलवे द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के दौरान 30 प्रतिशत पेंट्री कारों को खराब हालत में पाया गया था।

इस फोटो का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (File Photo)

रेलवे, यात्रियों को यात्रा के दौरान बेहतर सुविधा देने की लगातार कोशिश में लगा है। ट्रेन में जल्द ही एसी पेंट्री और उसमें इंडक्शन कुकिंग सिस्टम की सुविधा भी हो सकती है। हाल ही में, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेश (आईआरसीटीसी) से सभी ट्रेनों में पूरी तरह से वातानुकूलित पेंट्री कार संलग्न करने के लिए रोड मैप के साथ आने के लिए कहा है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इन एसी पेंट्री कारों में इंडक्शन कुकिंग सिस्टम होगा। साथ ही इनमें साफ सफाई का खास ख्याल रखा जाएगा। अभी मुंबई में राजधानी एक्सप्रेस में एसी पेंट्री के साथ इंडक्शन कुकिंग सिस्टम की व्यवस्था की गई है।

लगभग 400 पेंट्री कार पूरे रेलवे नेटवर्क में लंबी दूरी की ट्रेनों से जुड़ी हैं। साल 2015 में भारतीय रेलवे द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के दौरान 30 प्रतिशत पेंट्री कारों को खराब हालत में पाया गया था। इन पेंट्री कारों में खाना तैयार करने के लिए एलपीजी सिलेंडरों का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा, जैसा कि पेंट्री कारों में आग के मामले सामने आए हैं, इसलिए सुरक्षा के बारे में चिंताएं भी बढ़ रही हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अनाधिकृत वेंडिंग को रोकने के लिए रेलवे बोर्ड ट्रेनों पर वेंडिंग सुविधाएं प्रदान करने के लिए रेलवे स्टेशनों पर आईआरसीटीसी-अधिकृत खाने के स्टालों की भी योजना बना रहा है। नई नीति के तहत, क्षेत्रीय रेलवे ने प्रमुख खानपान इकाइयों को आईआरसीटीसी को ‘जैसा है जहां है’ आधार पर सौंप दिया। इसलिए, मूल्य निर्धारण और निविदा, निरीक्षण और खाद्य वस्तुओं के गुणवत्ता नियंत्रण सहित सभी पहलुओं आईआरसीटीसी के तहत होंगे।

पीयूष गोयल ने IRCTC को अपने सभी आधार रसोईयों की एक लाइव फीड प्रदान करने का निर्देश दिया है, जहां से ट्रेनों पर आपूर्ति के लिए भोजन भेजा जाता है। इसके अलावा, आईआरसीटीसी से ठेकेदारों के लिए पॉइंट ऑफ सेल अनिवार्य रूप से बनाने के लिए कहा गया है। ओवर चर्जिंग की शिकायतों को रोकने के लिए इलेक्ट्रॉनिक रूप से जेनरेट की गई रसीद देने के लिए कहा गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App