PPF, सुकन्या योजना समेत कई छोटी बचतों पर आज से कम मिलेगा ब्याज - Jansatta
ताज़ा खबर
 

PPF, सुकन्या योजना समेत कई छोटी बचतों पर आज से कम मिलेगा ब्याज

लोक भविष्य निधि (पीपीएफ), किसान विकास पत्र (केवीपी) तथा वरिष्ठ नागरिक जमा जैसी लघु बचत योजनाओं पर 1 अप्रैल 2016 से ब्याज दर में 1.3 प्रतिशत की कटौती लागू हो जाएगी।

Author नई दिल्ली | April 1, 2016 12:18 AM
खाता को समयपूर्व बंद करने की तभी अनुमति होगी जब खाता खुले पांच वित्त वर्ष पूरे हो गए हों। (फाइल फोटो)

लोक भविष्य निधि (पीपीएफ), किसान विकास पत्र (केवीपी) तथा वरिष्ठ नागरिक जमा जैसी लघु बचत योजनाओं पर 1 अप्रैल 2016 से ब्याज दर में 1.3 प्रतिशत की कटौती लागू हो जाएगी। सरकार तिमाही आधार पर दरों को बाजार संबद्ध करने की दिशा में काम कर रही है।

एक अप्रैल से 30 जून की अवधि के लिए पीपीएफ पर 8.1 प्रतिशत का ब्याज दिया जाएगा, जो अभी 8.7 प्रतिशत है। किसान विकास पत्र पर इसे 8.7 से घटाकर 7.8 प्रतिशत किया गया है। वहीं पांच साल की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर अब 9.3 के बजाय 8.6 प्रतिशत का ब्याज दिया जाएगा। वित्त मंत्रालय के आदेश के अनुसार छोटी बच्चियों की बचत योजना सुकन्या समृद्धि खाते पर भी अब 9.2 के बजाय 8.6 प्रतिशत का ब्याज देय होगा।

हालांकि, अब सरकार प्रत्येक तिमाही के आधार पर ब्याज दर तय करेगी। अभी सालाना आधार पर ब्याज निर्धारित होता है। यह सरकारी प्रतिभूतियों पर इससे पिछले तीन महीने की प्राप्ति पर आधारित होगी। डाकघर बचत पर चार प्रतिशत की ब्याज दर को कायम रखा गया है, वहीं एक से पांच साल की मियादी जमा पर इसमें कटौती की गई है।
लोकप्रिय पांच साल के राष्ट्रीय बचत सर्टिफिकेट पर अब 8.1 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा, जो अभी तक 8.5 प्रतिशत है। पांच साल के मासिक आय खाते पर 8.4 के बजाय 7.8 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा। डाक घर की एक, दो और तीन साल की मियादी जमा पर अभी तक 8.4 प्रतिशत का ब्याज मिलता है। अब एक साल की मियादी जमा पर 7.1 प्रतिशत, दो साल की जमा पर 7.2 प्रतिशत तथा तीन साल की जमा पर 7.4 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा।

पांच साल की जमा पर पहली तिमाही में अब 7.9 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा जो अभी तक 8.5 प्रतिशत है। वहीं पांच साल की आवर्ती जमा पर इसे 8.4 से घटाकर 7.4 प्रतिशत किया गया है। किसान विकास पत्र में अभी मूल राशि 100 महीने 8 साल चार महीने में दोगुनी होती है। अब यह 110 महीने यानी 9 साल दो महीने में दोगुनी होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App