Infosys Q3 Result Net Profit rs 3708 Crore - Jansatta
ताज़ा खबर
 

इंफोसिस का Q3 में मुनाफ़ा 7% बढ़ा, ₹3708 करोड़ का शुद्ध लाभ

बेंगलुरु की कंपनी का शुद्ध लाभ इससे पूर्व वित्त वर्ष 2015-16 की इसी तिमाही में 3,465 करोड़ रुपए था।

Author बेंगलुरु | January 13, 2017 1:46 PM
इंफोसिस प्रमुख विशाल सिक्‍का। (फाइल फोटो)

देश की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस का एकीकृत शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की अक्तूबर-दिसंबर तिमाही में सात प्रतिशत बढ़कर 3,708 करोड़ रुपए रहा। दिग्गज आईटी कंपनी ने चालू वित्त वर्ष के लिये आय के बारे में अनुमान को संशोधित कर 8.4 से 8.8 प्रतिशत किया है जो पहले 8 से 9.0 प्रतिशत था। बेंगलुरु की कंपनी का शुद्ध लाभ इससे पूर्व वित्त वर्ष 2015-16 की इसी तिमाही में 3,465 करोड़ रुपए था।
कंपनी की एकीकृत आय तीसरी तिमाही में 8.6 प्रतिशत बढ़कर 17,273 करोड़ रुपए रही जो एक वर्ष पूर्व 2015-16 की इसी तिमाही में 15,902 करोड़ रुपए थी। इंफोसिस के परिणाम के बाद उसका शेयर बीएसई में शुरुआती कारोबार में 0.61 प्रतिशत टूटकर 993.95 पर पहुंच गया।

इंफोसिस के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) तथा प्रबंध निदेशक विशाल सिक्का ने कहा, ‘तिमाही के दौरान मौसमी और अन्य चुनौतियों को देखते हुए आय के लिहाज से प्रदर्शन हमारी उम्मीद के अनुरूप है।’ कंपनी के मुख्य परिचालन अधिकारी यूबी प्रवीण राव ने कहा, ‘हमारा कर्मचारियों के कंपनी से जुड़ाव बढ़ाने की दिशा में प्रयास जारी है और इससे छोड़कर जाने वाले लोगों की संख्या में कमी आयी है। तिमाही के दौरान हमले 77 नये ग्राहक बनाये। साथ ही दो ग्राहक 7.5 करोड़ डॉलर से अधिक आय श्रेणी में जोड़े गये।’

इंफोसिस ने रविकुमार एस को उप-मुख परिचालन अधिकारी नियुक्त किया है जो राव को रिपोर्ट करेंगे। उनकी नियुक्ति तत्काल प्रभाव से लागू हो गयी है। डॉलर के संदर्भ में इंफोसिस का शुद्ध लाभ 4.4 प्रतिशत बढ़कर 54.7 करोड़ डॉलर रहा जबकि आय छह प्रतिशत बढ़कर 2.5 अरब डॉलर रही। चालू वित्त वर्ष की अक्तूबर-दिसंबर तिमाही के दौरान कंपनी ने कर समेत अंतरिम लाभांश 3,029 करोड़ रुपए दिया। इंफोसिस के कर्मचारियों की संख्या दिसंबर तिमाही के अंत में 1.99 लाख रही जो सितंबर तिमाही से मामूली रूप से कम है। कंपनी की नकद और नकद समतुल्य संपत्ति, बिक्री के लिये उपलब्ध वित्तीय संपत्ति तथा सरकारी बांड दिसंबर 2016 को समाप्त तिमाही में 35,697 करोड़ रुपए रही जो 30 सितंबर 2016 को 35,640 करोड़ रुपए थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App