ताज़ा खबर
 

भारतीयों के पास है 66 लाख करोड़ रुपये का सोना, पिछले साल से 15 फीसदी ज्यादा किया निवेश

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल का कहना है कि साल 2016 में भारत में सोने की मांग में 24 फीसदी की गिरावट आ सकती है। यह गिरावट सात वर्षों में सबसे ज्यादा होगी।
सोने के गहने खरीदने से पहले उसे देखती एक महिला ग्राहक। (फाइल फोटो)

सोने के प्रति भारतीयों का आकर्षण पुराना है। कार्वी वेल्थ मैनेजमेंट की रिपोर्ट ने भी इस पर मुहर लगाई है। कार्वीज इंडिया वेल्थ रिपोर्ट 2016 के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2016 में भारतीयों की व्यक्तिगत कुल संपत्ति 132 लाख करोड़ रुपये मूल्य के बराबर है। यह आंकड़ा वित्तीय वर्ष 2015 से 10.32 फीसदी ज्यादा है। साल 2015 में इसमें 2 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी। रिपोर्ट के मुताबिक इस व्यक्तिगत संपत्ति का करीब आधा हिस्सा यानी 65.90 लाख करोड़ रुपये सिर्फ सोने में निवेश किया गया है। साल 2015 के मुकाबले सोने में निवेश वित्तीय वर्ष 2016 में 15.41 फीसदी ज्यादा हुआ है। साल 2015 में 57.1 लाख करोड़ रुपये सोने में निवेश किया गया था।

एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, आज (गुरुवार को) फ्यूचर ट्रेड में सोने की कीमत में 295 रुपये की गिरावट प्रति 10 ग्राम दर्ज की गई है। सोने का भाव आज प्रति 10 ग्राम 27,292 रुपये रहा। मल्टी कमॉडिटी एक्सचेंज में अगले साल फरवरी में डिलीवरी होने वाले सोने की कीमत में 295 रुपये यानी 1.07 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। कार्वी को उम्मीद है कि सोने में अगली तेजी साल 2021 तक आएगी जब इसकी कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में प्रति औंस 3000 डॉलर तक पहुंचेगी।

हालांकि, कार्वी का मानना है कि भारत में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) लागू होने के बाद इसमें कुछ फेरबदल हो सकता है। यह एक असरकारी फैक्टर हो सकता है। मौजूदा समय में सोने की ज्वेलरी खरीद पर 11.5 फीसदी टैक्स लिया जा रहा है। इनमें से 10 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी है और 1 से 1.5 फीसदी वैल्यू ऐडेड टैक्स है। जब जीएसटी लागू होगा तब इसपर 4 से 6 फीसदी का स्टैंडर्ड टैक्स लग सकता है। इससे उम्मीद जाहिर की जा रही है कि सोने की मांग में फिर तेजी आ सकती है।

दूसरी तरफ वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल का कहना है कि साल 2016 में भारत में सोने की मांग में 24 फीसदी की गिरावट आ सकती है। यह गिरावट सात वर्षों में सबसे ज्यादा होगी। काउंसिल का कहना है कि सोने के दाम में बढ़ोत्तरी और तस्करी की घटनाओं में बढ़ोत्तरी की वजह से ऐसा होगा। काउंसिल ने सरकारी कदमों को भी इसकी एक वजह माना है। वित्तीय साल 2016 के पहले 9 महीने की अवधि में भारत में सोने की मांग में 29 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। इसकी मुख्य वजह सोने की कीमत में बढ़ोत्तरी और सरकार द्वारा अधिक मूल्य की ज्वैलरी खरीद पर टैक्स लगाने को अनिवार्य करना बताया जा रहा है।

वीडियो देखिए- पुश्तैनी गहनों पर नहीं लगेगा कोई टैक्स; जानिए कौन रख सकेगा कितना सोना

वीडियो देखिए- दिल्ली: IGI एयरपोर्ट से मिला 16 किलो सोना

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.