ताज़ा खबर
 

Indian Railways: ट्रेनों को एक्सीडेंट से बचाने के लिए स्मार्ट कोच लगने शुरू, टी-18 का भी ट्रायल होगा शुरू

कोच ने जैसे ही पटरियों पर दौड़ना शुरू किया उसी के साथ ही रेलवे को डेटा मिलना शुरू हो गया। ट्रेन जब चलती है तो पता चलता रहता है कि कोच के कौन से हिस्से में ज्यादा वाइब्रेशन हो रहा है।

smart coach, indian railway, new coach, smart coach train, t 18, train smart coach, Indian Railways, Indian Railways news, Project Utkrisht, Indian Railways Utkrisht, Howrah-Kalka Mail, LED panel lighting, braille signage, night glow stickers, LED panel photo frame in first AC coaches, new types of bottle holders, big size mirrors, fire extinguishers, toilets with exhaust fans, health faucets, auto janitors, odonil containers,स्मार्ट कोच से एक महीने में मिलने वाले डेटा से रेलवे उत्साहित है।

ट्रेनों के एक्सीडेंट की घटनाएं बढ रही हैं। रेलवे ट्रेनों को एक्सीडेंट से बचाने के लिए और ट्रेनों में स्मार्ट कोच लगाने जा रहा है। सितंबर में रेलवे ने कैफियत एक्सप्रेस में स्मार्ट कोच लगाए थे। रेलवे इसके बाद अब 5 और ट्रेनों में स्मार्ट कोच लगाने जा रहा है। कोच ने जैसे ही पटरियों पर दौड़ना शुरू किया उसी के साथ ही रेलवे को डेटा मिलना शुरू हो गया। ट्रेन जब चलती है तो पता चलता रहता है कि कोच के कौन से हिस्से में ज्यादा वाइब्रेशन हो रहा है। कौन सा व्हील ज्यादा गर्म हो रहा है। स्मार्ट कोच के 8 पहियों में सेंसर लगे हैं। ये सेंसर पहले डेटा को कंप्यूटर पर भेजते हैं इसके बाद डेटा क्लाउड पर चला जाता है।

सेंसर्स से मिलने वाले डेटा को एनालाइज किया जा रहा है। स्मार्ट कोच से एक महीने में मिलने वाले डेटा से रेलवे उत्साहित है। स्मार्ट कोच से जो संकेत मिल रहे हैं इससे साफ है कि यह तकनीक ट्रेन को एक्सीडेंट से बचाने में कामयाब होगी। इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल दुनिया के दूसरे देशों में पहले से किया जा रहा है, लेकिन भारत में इसका इस्तेमाल पिछले महीने ही होना शुरू हुआ है। अब रेलवे 5 और ट्रेनों में स्मार्ट कोच लगाएगा और इस काम को नवंबर दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। इन स्मार्टकोच से मिलने वाला डेटा रेलवे के लिए बहुत फायदेमंद है।

T-18 की बात करें तो जल्द ही इस ट्रेन का ट्रायल शुरू होगा। यह ट्रेन शताब्दी ट्रेन की जगह लेगी। इसके ट्रायल के लिए रूट भी तय हो गया है। इसका ट्रायल दिल्ली मुरादाबाद सेक्शन पर होगा। इस ट्रेन को इंटीग्रल रेल कोच फैक्ट्री में तैयार किया गया है। ट्रेन का 15 से 20 रनों का ट्रायल किया जाएगा। इसका छोटा ट्रायल 50 किलोमीटर का और सबसे बड़ा ट्रायल 100 किलोमीटर का होगा। इस ट्रेन को ट्रायल के दौरान अधिकतम 110 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से चलाया जाएगा। इस ट्रेन में कुल 16 कोच होंगे। इनमें 14 नॉन एग्जीक्यूटिव और 2 कोच एग्जीक्यूटिव होंगे। इस ट्रेन की मैक्सिम स्पीड160 किलोमीटर प्रति घंटा होगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दहेज की मांग न हुई पूरी तो सऊदी अरब में रह रहे पति ने मोबाइल पर दे दिया तीन तलाक
2 11वें साल भी सबसे अमीर भारतीय हैं मुकेश अंबानी, जानिए कितनी है रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन की संपत्ति
3 चंदा कोचर ने ICICI बैंक के सीईओ पद से दिया इस्तीफा, 5% चढ़े कंपनी के शेयर
यह पढ़ा क्या?
X