ताज़ा खबर
 

एयरपोर्ट के ठेके हासिल करने के बाद नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के कॉन्ट्रैक्ट की रेस में अडानी ग्रुप, जानें- क्या है प्लान

नई दिल्ली स्टेशन का पुनर्निर्माण रेलवे का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट है। इसके तहत कॉमर्शियल, रिटेल और हॉस्पिटैलिटी हब भी तैयार किया जाना है। एक तरह से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को एयरपोर्ट की तर्ज पर तैयार किया जाएगा।

Author Edited By यतेंद्र पूनिया नई दिल्ली | Updated: September 16, 2020 9:43 AM
new delhi railway stationनई दिल्ली रेलवे स्टेशन

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को नए सिरे से तैयार करने का ठेका दिग्गज कारोबारी गौतम अडानी के ग्रुप को मिल सकता है। अडानी ग्रुप की कंपनी ने इस प्रोजेक्ट में अपनी रुचि जताई है। इससे पहले अडानी ग्रुप को देश के 6 हवाई अड्डों के संचालन का ठेका भी मिल चुका है। अडानी की कंपनी समेत देश और विदेश की करीब 20 कंपनियों ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के पुनर्निर्माण के काम में रुचि जताई है। इन कंपनियों में जीएमआर, जेकेबी इन्फ्रास्ट्रक्चर, अरेबियन कंस्ट्रक्शन कंपनी शामिल हैं। रेल लैंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी ने इसके लिए ऑनलाइन बोलियां आमंत्रित की थीं।

नई दिल्ली स्टेशन का पुनर्निर्माण रेलवे का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट है। इसके तहत कॉमर्शियल, रिटेल और हॉस्पिटैलिटी हब भी तैयार किया जाना है। एक तरह से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को एयरपोर्ट की तर्ज पर तैयार किया जाएगा। इसके अलावा होटल, रिटेल समेत तमाम सुविधाएं भी मुहैया होंगी। इससे रेलवे की कमाई में भी इजाफा होगा और दूसरी तरफ यात्रियों को भी अतिरिक्त सुविधाएं मिल सकेंगी। आरएलडीए के वाइस चेयरमैन वेद प्रकाश दुधेजा ने बताया कि नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के रिडेवलपमेंट के लिए कई देशी और विदेशी कंपनियों ने अपनी रुचि दिखाई है।

यह प्रोजेक्ट रियल स्टेट को बढ़ावा देगा तथा नई दिल्ली और आसपास के क्षेत्र में विकास कार्यों को तेज़ी देगा। कनॉट प्लेस भारत के सबसे एक्सपेंसिव रिटेल और ऑफिस डेस्टिनेशन्स में से एक है। इस रिडेवलपमेंट के बाद इसके कॉमर्स रियल एस्टेट में 2.5 मिलियन वर्ग फीट का क्षेत्र और जुड़ जाएगा। नई दिल्ली स्टेशन में लगभग 4.5 लाख यात्री हर दिन आते हैं। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से हर दिन 400 ट्रेनें गुजरती हैं और इसकी क्षमता में और वृद्धि होने की उम्मीद है। प्लान के मुताबिक नई दिल्ली स्टेशन को डीएमआरसी की येलो लाइन, एयरपोर्ट लाइन और कनॉट प्लेस की आउटर सर्किल के साथ जोड़ा जाएगा।

इस प्रोजेक्ट का निर्माण डिजाइन बिल्ड फाइनेंस ऑपरेटर ट्रांसफर (DBFOT) मॉडल पर 60 वर्ष के कंसेशन पीरियड पर बनाया जाएगा। चार वर्ष के फेजड रिडेवलपमेंट में स्टेशन रिडेवलपमेंट, एसोसिएट इन्फ्रास्ट्रक्चर का डेवलपमेंट, सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर, रेलवे ऑफिस और रेलवे क्वार्टर का अपग्रेडेशन भी होगा। भारत सरकार रेलवे के निजीकरण पर जोर दे रही है। इससे पहले भारतीय रेलवे ने प्राइवेट ट्रेन चलाने का भी फैसला किया था। इसके अलावा भारतीय रेलवे इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) में भी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एयर इंडिया को नहीं मिल रहे खरीददार, हमेशा के लिए बंद भी कर सकती है मोदी सरकार, जानें- क्या है प्लान
2 एक वैद्य ने खड़ी की सैकड़ों करोड़ की बैद्यनाथ आयुर्वेद कंपनी, कोरोना काल में बढ़ी गिलोय, च्यवनप्राश जैसे उत्पादों की मांग
3 विजय माल्या, चोकसी समेत 38 आर्थिक अपराधी 5 सालों में भारत से भागे, सरकार ने खुद दी जानकारी
IPL 2020 LIVE
X