ताज़ा खबर
 

रेल यात्रा के बदल सकते हैं नियम, लॉकडाउन के बाद मास्क पहनना, थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग होगी जरूरी, बुजुर्गों को यात्रा से दूर रखने की तैयारी

रेलवे यात्रा के लिए प्रोटोकॉल तैयार करने में जुटा है। यदि उस प्रोटोकॉल को लागू किया जाता है तो फिर ट्रेन का सफर पहले के मुकाबले काफी अलग तरह का होगा।

प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना संकट के बीच 21 दिन के लॉकडाउन की मियाद 14 अप्रैल को समाप्त हो रही है। इस बीच 15 अप्रैल से लोग सफर कर पाएंगे या नहीं, इसे लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि लॉकडाउन बढ़ेगा या फिर कुछ पाबंदियां कम की जाएंगी। लेकिन इतना तय है कि लॉकडाउन खुलने के बाद रेलवे में पहले की तरह सफर करना मुश्किल होगा। दरअसल एक रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे यात्रा के लिए प्रोटोकॉल तैयार करने में जुटा है। यदि उस प्रोटोकॉल को लागू किया जाता है तो फिर ट्रेन का सफर पहले के मुकाबले काफी अलग तरह का होगा। आइए जानते हैं, क्या बदलाव करने की तैयारी कर रहा है रेलवे…

सफर में जरूरी हो सकता है मास्क पहनना: रेल यात्रा के दौरान फेस मास्क को अनिवार्य बनाने पर विचार चल रहा है। इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले दौर में स्टेशनों पर यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा। यह प्रक्रिया स्टेशन के अंदर जाने से पहले ही होगी ताकि उन्हें फ्लू जैसे लक्षणों का पता किया जा सके।

6 सीटों के केबिन में बैठेंगे सिर्फ दो यात्री: इसके अलावा पहले की तरह ट्रेनें चलने में अभी लंबा वक्त लग सकता है। फिलहाल रेलवे की योजना अहम रूटों पर ही ट्रेनें चलाने की है। यही नहीं ट्रेनों की सभी सीटों के लिए बुकिंग नहीं होगी। सूत्रों के मुताबिक 6 सीटों के केबिन में से सिर्फ दो सीटों पर ही लोगों को बैठने की अनुमति होगी।

AC कोच के बिना ही चलेंगी ट्रेनें: यही नहीं लाइव हिंदुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक कुछ वक्त के लिए ट्रेनों से एसी डिब्बों को हटाया जा सकता है। इसके अलावा यात्रा से पहले यात्रियों को अपनी सेहत के बारे में रेलवे को जानकारी देनी होगी।

बुजुर्गों को रेल सफर से दूर रहने की दी जा सकती है सलाह: रेलवे की ओर से सफर करने के लिए यात्रियों की उम्र सीमा तय करने पर भी विचार किया जा रहा है। बता दें कि कोरोना के संक्रमण को युवाओं के मुकाबले वरिष्ठ नागरिकों के लिए ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है। ऐसी स्थिति में बुजुर्गों को सफर की अनुमति न देने पर विचार किया जा सकता है।

यात्रा से घंटों पहले पहुंचना पड़ सकता है स्टेशन: रेल सफर और स्टेशनों पर यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इसके अलावा थर्मल स्क्रीनिंग एवं अन्य प्रक्रिया को पूरी करने के लिए यात्रियों को सफर से कुछ वक्त पहले ही आने की हिदायत दी जा सकती है। रेलवे के एक अधिकारी के हवाले से लाइव हिंदुस्तान ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ट्रेनों में सफर को लेकर प्रोटोकॉल लगभग तैयार कर लिया गया है।

30 अप्रैल तक रद्द चल रही हैं तीन प्राइवेट ट्रेनें: बता दें कि रेलवे ने अभी 15 अप्रैल से ट्रेनों के संचालन को लेकर आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा है। हालांकि उसकी ओर से विंडो से टिकट बुकिंग को बंद कर दिया है। ऑनलाइन टिकट बुकिंग कराई जा सकती है। यही नहीं इस बीच तेजस एक्सप्रेस समेत रेलवे ने तीन निजी ट्रेनों को 30 अप्रैल तक कैंसल रखने का फैसला लिया है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: जानें-कोरोना वायरस से जुड़ी हर खबर । जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल ।  कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जान‍िए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 एचडीएफसी बैंक के बोर्ड में नियुक्तियों के फैसले पर रिजर्व बैंक ने लगाई रोक, कहा- नए एमडी के आने तक करें इंतजार
2 PPF, सुकन्या समृद्धि योजना और आरडी जमा पर पोस्ट ऑफिस ने दी पेनल्टी में राहत, 30 जून तक जमा कर सकते हैं न्यूनतम राशि
3 कोरोना संकट से दुनिया की अर्थव्यवस्था को होगा 5 ट्रिलियन डॉलर का नुकसान, 2022 तक पटरी पर आएंगे हालात