ताज़ा खबर
 

e-retailers कंपनियों ने बढ़ाया डाक विभाग का राजस्व

ई-वाणिज्य कंपनियों द्वारा उपभोक्ताओं को आर्डर की डिलीवरी के लिए भारतीय डाक विभाग की सेवा का उपयोग लगातार बढ़ाने के कारण तेजी से बढ़ने ई-वाणिज्य कारोबार विभग के लिए राजस्व बढ़ाने का जरिया बन गया है

Author July 29, 2015 12:28 pm
भारतीय डाक विभाग का बढ़ा राजस्व

ई-वाणिज्य कंपनियों द्वारा उपभोक्ताओं को आर्डर की डिलीवरी के लिए भारतीय डाक विभाग की सेवा का उपयोग लगातार बढ़ाने के कारण तेजी से बढ़ने ई-वाणिज्य कारोबार विभग के लिए राजस्व बढ़ाने का जरिया बन गया है। डाक विभाग का पारंपरिक परिचालन ई-मेल और मोबाइल फोन का प्रसार बढ़ने से प्रभावित हुआ था।

इस क्षेत्र की संभावना को देखते हुए डाक विभाग ने देश के वाणिज्यिक केंद्र मुंबई में प्रतिबद्ध ई-वाणिज्य और पार्सल प्रसंस्करण केंद्र खोला है। शहर के परेल इलाके में 12,000 वर्गफुट में फैली इस इकाई को कम अवधि में ही अच्छा कारोबार मिला। यह इकाई रोजाना करीब 5,000 आर्डर का संचालन करती है।

कई ई-वाणिज्य कंपनियों ने भारत की सबसे पुरानी और विश्वसनीय राष्ट्रीय डाक सुविधा के साथ गठजोड़ के लिए संपर्क किया है जिनमें आमेजन, स्नैपडील, फ्लिपकार्ट, ई-बे, टेलीब्रांड इंडिया, टीवीसी नेटवर्क, क्विक सर्विस और रेड बाक्स शामिल हैं।

डाक विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा  ‘वाणिज्यिक समझौता पिछले साल से हो रहा है और अब तक हमारा मुंबई क्षेत्र में 46 ई-वाणिज्यिक कंपनियों, पुणे में सात और गोवा में छह कंपनियों के साथ गठजोड़ हुआ है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App