ताज़ा खबर
 

कोरोना महामारी के संकट से दुनिया में आएगी महामंदी, फिर भी फीकी नहीं पड़ेगी भारत की चमक: संयुक्त राष्ट्र

UNCTAD ने अपनी रिपोर्ट में कहा, 'इस साल विश्व की अर्थव्यवस्था में बड़ी मंदी देखने को मिल सकती है। खरबों डॉलर डूब सकते हैं। विकासशील देशों के लिए यह संकट गहरा होगा। हालांकि चीन और भारत इस संकट से बच सकते हैं।'

Author Edited By सूर्य प्रकाश संयुक्त राष्ट्र | Updated: March 31, 2020 2:43 PM
7th pay commission, 7th pay 7th pay commission da hike, 7th pay commission da rates, 7th pay commission da table, 7th pay commission da rules, 7th pay commission da news, 7th pay commission da 2020, commission latest news, 7th pay commission 2020, 7th pay commission latest news today 2018, 7th pay commission latest news in hindi, 7th cpc, 7th cpc latest news, 7th cpc latest news today, 7th pay commission up, 7th pay commission latest news today 2020प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

कोरोना वायरस की महामारी के चलते आने वाले समय में दुनिया आर्थिक महामंदी की ओर जाएगी। इस साल दुनिया भर की तमाम अर्थव्यवस्थाओं के खरबों डॉलर डूब जाएंगे, लेकिन इस महासंकट में भी भारत अपनी चमक बरकरार रख सकता है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने अपनी एक रिपोर्ट में यह बात कही है। वैश्विक संस्था ने कहा कि दुनिया की दो तिहाई आबादी विकासशील देशों में रहती है और इस महामारी के चलते वे गंभीर आर्थिक संकट का सामना करेंगे। संयुक्त राष्ट्र ने ऐसे देशों को बचाने के लिए 2.5 ट्रिलियन डॉलर के पैकेज की भी मांग की।

यूनाइटेड नेशंस कॉन्फ्रेंस ऑन ट्रेड एंड डिवेलपमेंट (UNCTAD) ने अपने ‘विकासशील देशों को कोरोना वायरस का झटका: भविष्य में प्रभाव’ शीर्षक से प्रकाशित रिपोर्ट में कहा कि कमोडिटी के मामले में समृद्ध देशों में 2 से तीन खरब डॉलर तक के निवेश में कमी आ सकती है।  UNCTAD ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि चीन की सरकार ने अपनी अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए कई पैकेज जारी किए हैं, इससे उसे फायदा हो सकता है। संयुक्त राष्ट्र की संस्था ने कहा कि यह अप्रत्याशित संकट है और इसके लिए समाधान भी बड़े स्तर पर ही तलाशना होगा।

UNCTAD ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘इस साल विश्व की अर्थव्यवस्था में बड़ी मंदी देखने को मिल सकती है। खरबों डॉलर डूब सकते हैं। विकासशील देशों के लिए यह संकट गहरा होगा। हालांकि चीन और भारत इस संकट से बच सकते हैं।’ हालांकि इस रिपोर्ट में उन कारणों का जिक्र नहीं किया गया है कि आखिर कैसे चीन और भारत कोरोना महामारी के इस भीषण संकट के दौर से बचे रहेंगे। बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते अब तक दुनिया भर में 35,000 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 7,50,000 से ज्यादा लोग अब तक इसके शिकार हो चुके हैं।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तेलंगाना में सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में 75 पर्सेंट तक कटौती, महाराष्ट्र में दो टुकड़ों में मिलेगी मार्च की सैलरी, कोरोना लॉकडाउन के चलते राजस्व में कमी का दिया हवाला
2 तीन महीने के लिए खुद नहीं रुकेंगी लोन की किस्तें, आप लेना चाहते हैं सुविधा तो देनी होगी बैंक को जानकारी
3 वित्त वर्ष में कोई बदलाव नहीं, 30 जून तक के निवेश को इस साल के इनकम टैक्स रिटर्न में कर सकते हैं क्लेम, जानें- जरूरी बातें
IPL 2020 LIVE
X