ताज़ा खबर
 

डॉलर निकासी से रुपए को लगा झटका, वर्ष के दौरान 69 के करीब पहुंचा

अमेरिका की अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार की उम्मीद दिखती है। फेडरल रिजर्व ने पिछले एक साल में पहली बार ब्याज दरों में वृद्धि की है।
Author मुंबई | December 27, 2016 17:02 pm
(तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।)

वर्ष 2016 में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अपनी पहले जैसी मजबूती बरकरार नहीं रख पाया। वर्ष समाप्त होते होते गिरता हुआ एक समय यह 69 रुपए के करीब पहुंच गया था। वर्ष के आखिरी महीनों में विदेशी संस्थागत निवेशकों की भारी निकासी के चलते रुपया लगातार गिरता हुआ नवंबर में एक समय 68.90 के स्तर को छू गया, हालांकि, इसके बाद 26 दिसंबर को यह 67.74 रुपए प्रति डॉलर पर रहा। विदेशी संस्थागत निवेशकों ने वर्ष के आखिरी दौर में भारतीय पूंजी बाजारों से करीब दो अरब डालर की पूंजी निकाल ली जिसका डॉलर-रुपए की विनिमय दर पर काफी असर पड़ा। सितंबर में एक समय जहां डालर के मुकाबले रुपया 66.25 के मजबूत स्तर पर था वहीं नवंबर में एक समय यह गिरकर 68.90 रुपए प्रति डॉलर के स्तर तक पहुंच गया। विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली से विदेशी मु्रदा भंडार से निकासी हुई। पिछले साल के आखिरी दिन डॉलर के मुकाबले रुपया 66.15 पर रहा था जबकि इस साल 26 दिसंबर 2016 को इसका बंद भाव 67.74 रुपए प्रति डॉलर रहा।

इस लिहाज से इसमें करीब 2.40 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। विदेशी मुद्रा प्रवासी भारतीय (एफसीएनआर) जमाओं की परिपक्वता पर निकासी के बाद नवंबर में बाजार में धारणा काफी धूमिल रही। अमरिका में ब्याज दरें बढ़ने के बाद भारत और अमेरिका में दरों का अंतर कम होने से विदेशी मु्रदा की निकासी बढ़ी है। विदेशी निवेशकों ने रिण पत्रों के निवेश से 6.47 अरब डॉलर की निकासी की, हालांकि, इस दौरान इक्विटी में 4.01 अरब डॉलर का निवेश प्राप्त किया गया। इस प्रकार निवल निकासी दो अरब डालर से अधिक रही। आईएफए ग्लोबल के संस्थापक और सीईओ अभिषेक गोयनका ने बताया कि बाजार में इस तरह की चर्चा है कि डॉलर के मुकाबले रुपया 70 के आंकड़े को पार कर जायेगा। आने वाले दिनों में नोटबंदी का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी), औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों पर प्रभाव दिखाई देगा। उन्होंने कहा कि चीन की अर्थव्यवस्था में लगने वाले झटकों और डालर में आने वाली मजबूती आने वाले दिनों में रच्च्पये को नीचे खींचती रहेगी।

अमेरिका की अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार की उम्मीद दिखती है। फेडरल रिजर्व ने पिछले एक साल में पहली बार ब्याज दरों में वृद्धि की है। आर्थिक क्षेत्र में सुधार और ब्याज दरों में और वृद्धि के संकेतों से डॉलर को मजबूती मिलने की धारणा मजबूत हुई है। अमेरिका के हाल में संपन्न राष्ट्रपति पद के चुनावों में डोनाल्ड ट्रंप की जीत से डालर को काफी मजबूती मिली है। उनके प्रशासन द्वारा राजकोषीय खर्च बढ़ाये जाने से मजबूती की उम्मीद बढ़ी है। चुनावों के बाद से डालर जनवरी 2003 के बाद दुनिया के प्रमुख मुद्राओं के समक्ष रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा है। अमेरिकी शेयर बाजार में भी मजबूती आई है। कारोबारियों को उम्मीद है कि ट्रंप के सत्ता संभालने के बाद ढांचागत क्षेत्र में व्यय बढ़ेगा और करों में कटौती की जायेगी। दूसरी तरफ ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से हटने का पौंड पर असर पड़ा है। पौंड 15 प्रतिशत लुढ़क गया। उधर, यूरो भी डॉलर के मुकाबले 1.04 से नीचे आ गया जबकि वर्ष की शुरुआत में यह 1.09 पर रहा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.