ताज़ा खबर
 

पहली तिमाही में देश के 10 बैंकों ने राइट ऑफ किए 19 हजार करोड़ रुपये के लोन, जानें- किस बैंक ने कितना कर्ज बही-खाते से हटाया

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने 4,630 करोड़ रुपये को लोन जून तिमाही में राइट ऑफ किए हैं। इसके अलावा बैंक ऑफ इंडिया ने 3,505 करोड़ रुपये के लोन बही-खाते से हटा दिए हैं। कैनरा बैंक ने इस अवधि में 3,216 करोड़ रुपये के लोन राइट ऑफ किए हैं।

banks loan write offएसबीआई ने जून तिमाही में राइट ऑफ किए 4,630 करोड़ रुपये के लोन

देश के 10 बड़े बैंकों ने मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 19,000 करोड़ रुपये के कर्जों को राइट ऑफ कर दिया है। बीते साल की इसी तिमाही के मुकाबले यह राइट ऑफ करीब 10 फीसदी ज्यादा है। 2019 की जून तिमाही में बैंकों ने करीब 17,000 करोड़ रुपये के लोन को राइट ऑफ कर दिया था। इतने बड़े पैमाने पर लोन का राइट ऑफ का किए जाने से पता चलता है कि बैंकिंग सेक्टर में एनपीए का संकट कितना बढ़ गया है। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने 4,630 करोड़ रुपये को लोन जून तिमाही में राइट ऑफ किए हैं। इसके अलावा बैंक ऑफ इंडिया ने 3,505 करोड़ रुपये के लोन बही-खाते से हटा दिए हैं।

कैनरा बैंक ने इस अवधि में 3,216 करोड़ रुपये के लोन राइट ऑफ किए हैं। यही नहीं निजी सेक्टर के दिग्गज एक्सिस बैंक ने भी 2,284 करोड़ रुपये के लोन को राइट ऑफ कर दिया है। आईसीआईसीआई बैंक ने 1,426 करोड़ रुपये के लोन अपनी बुक्स से हटा दिए हैं। इंड्सइंड बैंक ने भी 1,250 करोड़ रुपये के कर्ज को राइट ऑफ कर दिया है।

फाइनेंशियल ईयर 2019 में देश के बैंकों ने कुल 2.13 लाख करोड़ रुपये के कर्जों को राइट ऑफ किया था। यह ट्रेंड 2020 में कम होने की बजाय़ बढ़ता ही गया और राइट ऑफ का आंकड़ा 2.29 लाख करोड़ रुपये के लेवल पर पहुंच गया। देश के 30 बैंकों ने एनपीए के आंकड़े को अपने बही-खाते से हटाने के मकसद से यह फैसला लिया था।

भले ही बैंकों ने इन लोन्स को राइट ऑफ किया है, लेकिन इसके बाद भी शाखाओं के स्तर पर कर्जों की वसूली के प्रयास किए जा रहे हैं। आरबीआई की वेबसाइट पर मौजूद डाटा के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में राइट ऑफ में 10 पर्सेंट का इजाफा हुआ है। बैंकिंग सेक्टर के जानकारों का कहना है कि बैंकों की वित्तीय स्थिति ऐसी नहीं है कि वे एनपीए में और इजाफे को बर्दाश्त कर पाएं। बता दें कि कोरोना संकट के बीच एनपीए का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में बैंक अपनी बुक्स से कर्जों को राइट ऑफ कर रहे हैं तो ताकि बही-खाते को साफ सुथरा रख सकें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अगले साल मार्च तक निजी हाथों में होंगे ये 4 सरकारी बैंक, मोदी सरकार ने तेज की हिस्सेदारी बेचने की प्रक्रिया
2 सोने के भंडार में स्विट्जरलैंड, इटली और जर्मनी जैसे कई छोटे देशों से भी पीछे है भारत, जानें- टॉप 10 में हैं कौन से देश
3 सैलरीड क्लास के 50 लाख लोगों की जुलाई में गईं नौकरियां, लॉकडाउन फिर लगने से बढ़ीं मुश्किलें: CMIE
ये पढ़ा क्या?
X