भारत ने ईरानी बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान को गेहूं भेजा-India sends 1st wheat shipment to Afghanistan via Chabahar port - Jansatta
ताज़ा खबर
 

भारत ने ईरानी बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान को गेहूं भेजा

भारत ने रविवार को ईरान के चाबाहार बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान को गेहूं की पहली खेप भेजी।

Author नई दिल्ली | October 30, 2017 5:32 AM
(PHOTO-Reuters )

भारत ने रविवार को ईरान के चाबाहार बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान को गेहूं की पहली खेप भेजी। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अफगानिस्तान के विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्बानी ने संयुक्त वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भारत से अफगानिस्तान जाने वाले गेहूं की पहली खेप को हरी झंडी दिखाई, जो ईरान के चाबाहार बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान पहुंचेगी। बयान में कहा गया है, “अफगानिस्तान के लोगों के लिए 11 लाख टन गेहूं की यह खेप भारत सरकार द्वारा दिए गए वचन का हिस्सा है, जिसमें कहा गया था कि वह अफगानिस्तान को अनुदान के आधार पर गेहूं भेजेगा।”

विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने चाबाहार बंदरगाह के माध्यम से अफगानिस्तान जाने वाली इस पहली खेप का स्वागत किया है। भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच परिवहन और पारगमन गलियारे के रूप में इस बंदरगाह को विकसित करने लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के बीच पिछले साल मई में त्रिपक्षीय समझौता हुआ था। विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा है, “अगले कुछ महीनों में अफगानिस्तान को गेहूं की छह और खेप भेजी जाएगी। दोनों देशों के मंत्री अफगानिस्तान की जनता एवं क्षेत्र के फायदे और समृद्धि के लिए सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के 24 अक्टूबर के भारत दौरे के बाद गेहूं की यह खेप अफगानिस्तान भेजी गई है। भारत हिंसाग्रस्त अफगानिस्तान का प्रमुख विकास सहायता साझेदार रहा है। विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा है, “गेहूं की यह खेप बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह अफगानिस्तान के लिए एक वैकल्पिक, विश्वसनीय और मजबूत संपर्क के रूप में चाबाहार बंदरगाह के संचालन के रास्ते खोलेगा। बयान में कहा गया है, “यह भारत से अफगानिस्तान के लिए व्यापार और पारगमन के नए अवसर खोलेगा और तीनों देशों एवं व्यापक क्षेत्र के बीच व्यापार और वाणिज्य को बढ़ाएगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App