ताज़ा खबर
 

भारत की तेल आयात पर निर्भरता दो दशक में 90% बढ़ सकती: रिपोर्ट

भारत की अपने तेल जरूरतों को पूरा करने के लिये आयात पर निर्भरता अगले दो दशक में 90 प्रतिशत तक पहुंच जाने का अनुमान है।

Author नई दिल्ली | August 28, 2015 18:09 pm

भारत की अपने तेल जरूरतों को पूरा करने के लिये आयात पर निर्भरता अगले दो दशक में 90 प्रतिशत तक पहुंच जाने का अनुमान है। ऐसे में देश को वैकल्पिक ईंधन के उपयोग के जरिये ऊर्जा समूह को विविध रूप देने की जरूरत है।

इंडिया टेक-पीडब्ल्यूसी की रिपोर्ट में यह कहा गया है। फिलहाल भारत अपनी तेल जरूरतोें का 79 प्रतिशत आयात करता है और इस मद में 2014-15 में 138.3 अरब डालर खर्च किये गये।

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘घरेलू तेल उत्पादन में मौजूदा प्रवृत्ति को देखते हुए आयात पर निर्भरता अगले दो दशकों में 90 प्रतिशत पहुंच जाने का अनुमान है। ऐसे में जीडीपी का अधिक प्रतिशत तेल आयात पर खर्च करने की आवश्यकता होगी….।

इसमें कहा गया है कि अर्थव्यवस्था बाह्य झटकों से पूरी तरह नहीं बच सकती, लेकिन तेल आयात पर निर्भरता सीमित हो तो ऐसे झटकों का प्रभाव सीमित हो सकता है।

रिपोर्ट में इसके लिये घरेलू तेल उत्पादन बढ़ाने के साथ-साथ विदेशों में ज्यादा-से-ज्यादा भंडार सुरक्षित किये जाने की बात कही गयी है।

इसमें कहा गया है, ‘‘हालांकि घरेलू तेल उत्पादन में वृद्धि की सीमाएं हैं, ऐसे में कोल बेड मिथेन :कोयला खानों से निकलने वाली गैस:, हाइड्रोजन, शेल गैस तथा इथेनॉल मिश्रित ईंधन जैसे वैकल्पिक ईंधन के जरिये देश के ऊर्जा समूह को विविध बनाया जाना चाहिए।

साथ ही प्रौद्योगिकी का उपयोग कर ईंधन निकालने की कुशलता में सुधार तथा नई घरेलू खोज को उत्पादन के दायरे में लाने पर ध्यान दिये जाने की जरूरत है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App