ताज़ा खबर
 

भारत ने चीन से आयात-निर्यात में धोखाधड़ी को लेकर व्यापारियों को आगाह किया

परामर्श में कुछ शिकायतों को शामिल करते हुए इसमें कहा गया है कि आयातकों को खराब गुणवत्ता के सामान मिलने को लेकर सतर्क रहना चाहिए।

Author बीजिंग | Published on: July 29, 2016 8:30 PM
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ खबर के प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

चीन में भारतीय राजनयिक मिशन ने भारत के व्यापारियों को आगाह करते हुए कहा है कि उन्हें यहां ऑर्डर किए गए सामान के बदले बालू, पत्थर, नमक, ईंट आदि मिल सकते हैं। मिशन ने धोखाधड़ी की घटना रोकने के लिए विस्तृत दिशानिर्देश जारी किया है। भारतीय दूतावास तथा वाणिज्य दूतावास ने विभिन्न व्यापार संगठनों को परामर्श जारी करते हुए व्यापारियों तथा लघु एवं मझोले उद्यमों (एसएमई) को चीन के साथ व्यापार की योजना बनाते समय सतर्क रहने को कहा है। कई शिकायतें मिलने के बाद यह परामर्श जारी किया गया है।

इंडियन एसोसिएशन ऑफ शंघाई के सदस्यों को जारी परामर्श में कहा गया है, ‘परामर्श में जो सूचना है, वह वाणिज्य दूतावास के पास सूचना और सहायता के लिए समय-समय पर लाई गई व्यापार संबंधित समस्याओं पर आधारित है।’ हालांकि परामर्श को चीन में भारतीय मिशन की वेबसाइट पर नहीं डाला गया है। गलतफहमी से बचने के लिए ऐसा किया गया है। भारत तथा चीन के बीच पाकिस्तान स्थित आतंवाकदियों तथा चरमपंथी समूह को संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकवादियों की सूची में डालने तथा ‘न्यूक्लीयर सप्लायर्स ग्रुप’ से जुड़ने के लिए भारत के आवेदन को समर्थन देने में चीन के अनिच्छुक होने को लेकर दोनों देशों के बीच पहले से तनाव है।

परामर्श में कुछ शिकायतों को शामिल करते हुए इसमें कहा गया है कि आयातकों को खराब गुणवत्ता के सामान मिलने को लेकर सतर्क रहना चाहिए। इसमें कहा गया है कि भारतीय आयातकों को रसायन, सिलिकन कर्बाइड, अल्यूमीनियम तथा जस्ते की सिल्ली जैसे ऑर्डर के बदले बालू, पत्थर, नमक, ईंट आदि जैसे सामान भेजकर ठगा जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आयकर विभाग ने बढ़ाई इनकम टैक्स रिटर्न भरने की अंतिम तारीख
2 वारेन बफे को पछाड़कर दुनिया में तीसरे सबसे धनी व्यक्ति बने अमेजन के सीईओ
3 बैंकों की हड़ताल से 15,000 करोड़ रुपए के कारोबार पर असर: ऐसोचैम