ताज़ा खबर
 

Coronavirus Crisis: लॉकडाउन से 200 bps गिर सकती है इकॉनोमी, कोरोना संकट पर पूर्व वित्त मंत्री की चेतावनी

पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा है कि मोदी सरकार की नीतियों की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था लगातार 7-8 क्वार्टर से काफी नीचे है और यह कोरोनावायरस महामारी से पहले ही शुरू हुआ था।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: March 28, 2020 12:00 PM
पूर्व BJP नेता व तब की अटल सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे यशवंत सिन्हा। (एक्सप्रेस फाइल फोटोः पार्था पॉल)

देश पर छाए कोरोनावायरस संकट के मद्देनजर भारत का आर्थिक विकास अगले वित्त वर्ष 2 परसेंटेज पॉइंट्स तक गिर सकता है। यह कहना है पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा का। न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में सिन्हा ने कहा कि भारत पहले ही काफी ऊंची बेरोजगारी दर देख रहा था और अब कोरोनावायरस ने संकट को और ज्यादा बढ़ा दिया है।

सिन्हा ने कहा, “मेरा अनुमान है कि देश में लगे 21 दिन के लॉकडाउन से जीडीपी में कम से कम 1 फीसदी की गिरावट आएगी। और अगर आप लॉकडाउन से पहले कोरोनावायरस की वजह से खड़ी हुई परेशानियों और भविष्य की चिंताओं को जोड़ लें तो वित्त वर्ष 2020-21 में दो परसेंटेज पॉइंट की गिरावट हो सकती है।”

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

यशवंत सिन्हा, जो कि मोदी सरकार के मुखर आलोचकों में से एक हैं ने बताया कि देश की अर्थव्यवस्था पहले ही पिछले 7-8 तिमाहियों से नीचे जा रही है। यह गिरावट कोरोनावायरस महामारी के आने से पहले भी जारी थी। अगर हमें गरीबी को प्रभावी ढंग से खत्म करना है तो हमारी विकास दर कम से 8% होनी चाहिए, लेकिन हमारी विकास दर अभी महज 5 फीसदी ही है।

कोरोनावायरस संकट के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से जारी किए गए आर्थिक राहत पैकेज पर सिन्हा ने कहा कि इस समस्या में खर्च 1 लाख 70 हजा करोड़ होगा, जिसका मतलब है कि सरकार का वित्तीय घाटा करीब 1 परसेंटेज पॉइंट (100 bps) घटेगा। इससे सरकार के खर्चों पर असर पड़ेगा, क्योंकि उसके पास निवेश के लिए कम राशि बचेगी। इसलिए यह देश के लिए बेहद कठिन हालात हैं औ हमें इस स्थिति में संकट से बाहर आने के लिए कुछ नया करने की जरूरत है।

सिन्हा ने आगे कहा, “सरकार ने रोजाना कमाने वालों की पहचान ही नहीं की। उनके पास आईडी कार्ड नहीं होता। खासकर छोटे शहरों और गांव में रहने वालों के पास। इसलिए उनके पास पैसे कैसे पहुंचेंगे यह अभी भी एक मुद्दा है।” जब पूर्व वित्त मंत्री से पूछा गया कि क्या भारत 2024-25 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन सकता है, तो उन्होंने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों में यह असंभव है। इन हालाकों में हम 2030 या 2032 तक भी भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था नहीं बना सकते। खासकर तब जब महामारी पूरी दुनिया पर असर डाल रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना संकट में लोग निकाल रहे दनादन कैश, मार्च के पहले पखवाड़े में निकाले 53,000 करोड़!
2 लॉकडाउन से बढ़ेंगी गरीबों की मुश्किलें, कोरोना वायरस से लड़ने के लिए यह पर्याप्त नहीं, आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने सरकार को दी सलाह
3 क्रेडिट और डेबिट कार्ड से भी है कोरोना वायरस का खतरा, कहीं पेमेंट के बाद सैनिटाइज करना न भूलें