ताज़ा खबर
 

ब्रिटेन-यूरोपीय संघ दोनों से रिश्ते मजबूत करेगा भारत: विकास स्वरूप

ब्रिटेन ने शुक्रवार (24 जून) के ऐतिहासिक जनमत संग्रह में 43 साल बाद यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के पक्ष में मतदान किया।

Author ताशकंद | June 24, 2016 15:30 pm
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप। (पीटीआई फाइल फोटो)

ब्रिटेन द्वारा ऐतिहासिक जनमत संग्रह में यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के पक्ष में मतदान करने के बाद भारत ने शुक्रवार (24 जून) को कहा कि उसके लिए ब्रिटेन और यूरोपीय संघ दोनों से संबंध महत्वपूर्ण हैं और वह आने वाले वर्षों में दोनों से रिश्तों को और मजबूत करने का प्रयास करेगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, ‘ईयू सदस्यता पर हमने ब्रिटेन का जनमत संग्रह देखा है। ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के दोनों के साथ हमारे रिश्ते काफी अहम् हैं। हम इन रिश्तों को और मजबूत करने का प्रयास करेंगे।’

स्वरूप शंघाई सहयोग संगठन एससीओ) में भाग लेने आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रतिनिधिमंडल में शामिल हैं। ब्रिटेन ने शुक्रवार (24 जून) के ऐतिहासिक जनमत संग्रह में 43 साल बाद यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के पक्ष में मतदान किया। यूरोपीय संघ छोड़ने यानी ‘लीव’ को 52 प्रतिशत वोटों के साथ जीत हासिल हुई। यूरोपीय संघ में बने रहने के पक्ष में 48 प्रतिशत वोट पड़े। यूकेआईपी के नेता निजेल फराज ने इसे ब्रिटेन के लिए आजादी का दिन बताया। वहीं ‘रिमेन’ यानी ईयू में बने रहने के कैंप ने इसे एक आपदा बताया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App