ताज़ा खबर
 

चीन को पछाड़ा, सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था में भारत अव्वल

सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक इस तिमाही में भारत की जीडीपी ग्रोथ की रफ्तार दुनिया में सबसे तेज रही है। जहां इस अवधि में भारत की अर्थव्यवस्था 7.7 प्रतिशत की दर से बढ़ी, वहीं चीन की अर्थव्यवस्था की बढ़ोतरी दर 6.8 प्रतिशत थी। हालांकि वित्त वर्ष 2017-18 में भारत की विकास दर 6.7 फीसदी रही।

दुनिया की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं के मामले में भारत ने चीन को पीछे छोड़ दिया है। दुनिया की तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत अभी भी अव्वल है। वत्तीय वर्ष 2017-18 की आखिरी तिमाही जनवरी-मार्च में भारत की जीडीपी 7.7 प्रतिशत की दर से बढ़ी। सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक इस तिमाही में भारत की जीडीपी ग्रोथ की रफ्तार दुनिया में सबसे तेज रही है। जहां इस अवधि में भारत की अर्थव्यवस्था 7.7 प्रतिशत की दर से बढ़ी, वहीं चीन की अर्थव्यवस्था की बढ़ोतरी दर 6.8 प्रतिशत थी। हालांकि वित्त वर्ष 2017-18 में भारत की विकास दर 6.7 फीसदी रही। ये आधिकारिक आंकड़े गुरुवार (31 मई) को जारी किए गए। जीडीपी की विकास दर तीसरी तिमाही में 7 फीसदी रही थी। वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने ट्विटर के माध्यम से कहा, “हर तिमाही जीडीपी की विकास दर बढ़ रही है और वित्तवर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में यह 7.7 फीसदी रही है। जो कि दिखाता है कि अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर है और भविष्य में और ऊंची विकास दर रहने की संभावना है। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के नेतृत्व में सही विकास है।”

विनिर्माण और निर्माण क्षेत्र में तेजी

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया, “वित्तवर्ष 2011-12 की कीमतों को आधार वर्ष मानते हुए, वित्तवर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में जीडीपी की विकास दर 7.7 फीसदी दर्ज की गई, जबकि पहली, दूसरी और तीसरी तिमाही में क्रमश: 5.6 फीसदी, 6.3 फीसदी और 7 फीसदी रही थी। इसमें कृषि (4.5 फीसदी), विनिर्माण (9.1 फीसदी) और निर्माण (11.5 फीसदी) क्षेत्र में हुई तेज वृद्धि का प्रमुख योगदान रहा।” सेक्टरों के आधार पर देखें तो कृषि और संबद्ध क्षेत्रों, उद्योग और सेवाओं के क्षेत्रों में 2017-18 की चौथी तिमाही में सकल मूल्यवर्धित (जीवीए) वृद्धि दर क्रमश: 4.5 प्रतिशत, 8.8 प्रतिशत और 7.7 प्रतिशत रही। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने संवाददाताओं को बताया, “चौथी तिमाही अच्छी रहने की उम्मीद थी और यह आंकड़ों में भी दिख रहा है। विनिर्माण और निर्माण क्षेत्र में तेजी विकास दर की गति को दर्शाता है, जिससे आगे भी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।”

खत्म हुआ जीएसटी का असर

मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा, “जीएसटी का असर अब पीछे छूट चुका है।”बयान में कहा गया कि जिन सेक्टरों की विकास दर 7 फीसदी से अधिक दर्ज की गई, उनमें ‘लोक प्रशासन, रक्षा और अन्य सेवाएं’ (10 फीसदी), ‘व्यापार, होटल्स, ट्रांसपोर्ट, कम्युनिकेशन और ब्रांडकास्टिंग सेवाएं (8 फीसदी)’ और ‘बिजली, गैस, पानी आपूर्ति और अन्य उपभोक्ता सेवाएं (7.2 फीसदी)’ शामिल रहे। बयान में कहा गया कि ‘कृषि, वानिकी और मछली पकड़ने’, ‘खनन और उत्खनन’, ‘विनिर्माण’, ‘निर्माण’, और ‘वित्तीय, अचल संपत्ति और पेशेवर सेवाओं’ की वृद्धि दर क्रमश: 3.4 फीसदी, 2.9 फीसदी, 5.7 फीसदी, 5.7 फीसदी और 6.6 फीसदी रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App