ताज़ा खबर
 

इनकम टैक्स रिटर्न भरने को नए फॉर्म हुए जारी, 1 लाख से ज्यादा के बिजली बिल की भी देनी होगी जानकारी, जानें- क्या हुए बदलाव

यदि आपने अपने चालू खाते में 1 करोड़ रुपये से अधिक जमा किए हैं, अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर 2 लाख रुपये से ज्यादा खर्च किया है या फिर 1 लाख रुपये से ज्यादा की बिजली खर्च की है तो फिर आपको उसकी जानकारी इनकम टैक्स रिटर्न में देनी होगी।

itr formफाइल फोटो

इस साल जब आप इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करेंगे तो आपको कुछ बदलाव देखने को मिलेंगे। यदि आपने अपने चालू खाते में 1 करोड़ रुपये से अधिक जमा किए हैं, अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर 2 लाख रुपये से ज्यादा खर्च किया है या फिर 1 लाख रुपये से ज्यादा की बिजली खर्च की है तो फिर आपको उसकी जानकारी देनी होगी।  केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने पिछले वित्त वर्ष (एक अप्रैल 2019 से लेकर 31 मार्च 2020 तक की आय) की रिटर्न दाखिल करने के लिए निर्धारण वर्ष 2020-21 में भरे जाने वाले सहज (आईटीआर-1) फॉर्म, आईटीआर-2, आईटीआर-3, सुगम (आईटीआर-4), आईटीआर-5, आईटीआर-6, आईटीआर-7 फॉर्म और आईटीआर-वी फॉर्म जारी किए हैं। आइए जानते हैं, आईटीआर फाइलिंग में हुए हैं क्या बदलाव…

2021 की पहली तिमाही का इन्वेस्टमेंट: यदि आपने 1 अप्रैल से 30 जून, 2020 तक आयकर की धारा 80C, 80D, 80E और अन्य सेक्शंस के तहत निवेश किया है तो आपको यह जानकारी देनी होगी। बता दें कि मोदी सरकार ने इनकम टैक्स रिटर्न में बड़ी राहत देते हुए 30 जून तक के निवेश को 31 मार्च, 2020 तक की रिटर्न में शामिल करने का फैसला लिया है।

महंगी विदेश यात्रा की देनी होगी जानकारी: अब आपको इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय कुछ जानकारियां भी देनी होंगी। यदि आपने विदेश यात्रा में 2 लाख रुपये से अधिक खर्च किया है या फिर 1 लाख रुपये से अधिक की बिजली खपत की है तो फिर आपको आईटीआर भरते समय उसकी पूरी जानकारी देनी होगी।

होम लोन पर भी बदल गया नियम: यदि आप संयुक्त रूप से आवासीय परिसर में रहते हैं तो फिर आप सबसे सरल आईटीआर सहज फॉर्म का इस्तेमाल नहीं कर सकते। आपको इसके लिए आईटीआर-2 का इस्तेमाल करना होगा। अब यह आम हो गया है कि दंपती संयुक्त रूप से घर खरीदते हैं ताकि होम लोन पर फायदा ले सकें। ऐसे लोन के मूलधन की अदायगी पर सेक्शन 80 सी के तहत छूट मिलती है। आईटीआर में इस पर 1.5 लाख रुपये की छूट ले सकते हैं। इसके अलावा ब्याज पर 2 लाख रुयये तक की राहत मिल सकती है।

रिफंड के लिए दे सकते हैं एक से ज्यादा अकाउंट: यही नहीं अब आप इनकम टैक्स रिफंड हासिल करने के लिए एक से ज्यादा बैंक अकाउंट भी दर्ज करा सकते हैं। आयकर विभाग अपने मुताबिक किसी भी खाते में रकम ट्रांसफर कर देगा। हालांकि आप अच्छे ढंग से मॉनिटरिंग के लिए किसी एक अकाउंट को ही दे सकते हैं। इससे आपको यह जानने में आसानी होगी कि इनकम टैक्स रिटर्न क्रेडिट हुआ या फिर नहीं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यशवंत सिन्हा का तंज, नरेंद्र मोदी को बधाई, कोविड के मामले में ऊपर होगा भारत और अर्थव्‍यस्‍था भी ढह जाएगी
2 MakeMyTrip ने की 350 कर्मचारियों की छंटनी, कहा- कोरोना से बिगड़े हालात, भविष्य को ध्यान में रखकर लिया फैसला
3 सोने से ज्यादा चमक रही चांदी, एक महीने में तेजी से बढ़े दाम, 51,000 रुपये किलो के पार, जानें- क्या है इजाफे की वजह
ये पढ़ा क्या?
X