ताज़ा खबर
 

दूसरों के अकाउंट में कालाधन जमा कराने वालों को हो सकती है सात साल की जेल

आठ नंवबर के बाद से आयकर विभाग ने कई राज्यों से 50 करोड़ रुपए जब्त किए हैं।

Narendra Modi, Demonetisation, Rs 500 Notes, Rs 2000, Rs 1000, ATM, Bank, Cash, Cash Van, Cash Transport, Recaliberation, ATM Tray, India, Business, Jansattaतस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर

दूसरों के अकाउंट में अपना कालाधन करने वाले अब सरकार की पकड़ से नहीं बच पाएंगे। इनकम टैक्स विभाग ने ऐसे लोगों को चेताया है कि अगर ऐसा करते हुए कोई पाया जाता है तो उसे सात साल तक की सजा हो सकती है। आईटी विभाग ने कहा कि अगर कोई ऐसा करते हुए पाया जाता है तो उसके खिलाफ बेनामी ट्रांजेक्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। अगर वह इसका दोषी पाया जाता है तो उसे जुर्माना और अधिकत्तम सात साल की सजा हो सकती है।

एक अधिकारिक सूत्र ने बताया कि रद्द किए गए नोटों के संदिग्ध इस्तेमाल की रिपोर्ट आने के बाद विभाग को 80 सर्वे और 30 तलाशी अभियान में 200 करोड़ रुपए अघोषित आय का पता चला है। आठ नंवबर के बाद से विभाग ने कई राज्यों में 50 करोड़ रुपए जब्त किए हैं। पीएम मोदी द्वारा 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद किए जाने के ऐलान के बाद विभाग ने पूरे देश में ऑपरेशन चलाकर ऐसे संदिग्ध बैंक अकाउंट्स की पहचान कर रहा है, जिनमें आठ नवंबर के बाद बड़ी संख्या में रुपए जमा कराए गए हैं। अगर ऐसे अकाउंट पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ बेनामी प्रोपर्टी ट्रांजेक्शन एक्ट 1988 के तहत कार्रवाई की जाएगी। यह एक्ट इसी साल एक नवंबर से लागू हुआ है। यह चल और अचल दोनों संपत्तियों पर लागू होता है।

बता दें, नोटबंदी के बाद त्वरित गति से कार्य करते हुए आयकर विभाग ने ऐसे सैकड़ों लोगों से नकदी के ‘स्रोत’ की जानकारी मांगी थी। यह जानकारी उनसे मांगी गई है, जिन्होंने आठ नवंबर के बाद अपने खाते में बड़ी मात्रा में 500 और 1000 के प्रतिबंधित नोट जमा कराए हैं। अधिकारियों ने बताया कि कर अधिकारियों ने देशभर में इस संबंध में जांच शुरू की है। उसने विभिन्न शहरों में आयकर कानून की धारा 133 (6) के तहत लोगों को ‘स्रोत’ की जानकारी देने के नोटिस जारी किए हैं। इस धारा के तहत विभाग लोगों से जानकारी मांग सकता है। अधिकारियों ने बताया कि यह नोटिस उन लोगों को जारी किए गए हैं जिनके बारे में बैंकों ने खातों में ‘असाधारण या संदिग्ध मात्रा में नकदी जमा कराने’ की जानकारी विभाग को दी है। यह आम तौर पर ढाई लाख रुपए से अधिक की नकदी जमा करने पर जारी किए जा रहे हैं।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर की मध्यरात्रि से देश में 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोटों को चलन से बाहर कर दिया था। इसके बाद बड़ी मात्रा में लोग बैंकों में अपनी नकदी जमा करा रहे हैं जिन पर आयकर विभाग लगातार नजर रखे हुए है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इंटरनेट इस्तेमाल के मामले में महाराष्ट्र शीर्ष पर, हिमाचल सबसे पीछे
2 शरिया के मुताबिक बैंकिंग सेवाएं शुरू करना चाहता है RBI, बैंकों में इस्‍लामिक विंडो खोलने का दिया प्रस्‍ताव
3 नोटबंदी का दिखेगा असर, बाज़ार में रहेगा उतार-चढ़ाव
ये पढ़ा क्या?
X