ताज़ा खबर
 

गलवान घाटी में फ़ौजियों की शहादत, बायकॉट के आह्वान के बाद भी चीन से आता रहा सामान, जुलाई में जून से भी ज्यादा आयात

जून में चीन से 4.8 अरब डॉलर के उत्पादों का इंपोर्ट हुआ है, जबकि जुलाई में 5.6 बिलियन डॉलर के उत्पादों को आयात किया गया है। इस आंकड़े से साफ है कि भारत चीन से सामान के आयात में एक बार फिर से लॉकडाउन के पहले के लेवल पर पहुंचने के करीब है।

chinese productsचीनी उत्पादों को भारत में जून और जुलाई में बढ़ा आयात

लद्दाख सीमा पर गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद से भले ही चीन में बने उत्पादों के बहिष्कार के ऐलान किए गए हों, लेकिन जून और जुलाई के महीने में आयात घटने की बजाय बढ़ा ही है। जुलाई महीने में चीन से भारत ने 5.6 अरब डॉलर के सामान आयात किया है। जुलाई में लगातार दूसरे महीने में चीन से आयात में तेजी देखी गई है। हालांकि 2019 के मुकाबले चीन से आयात का आंकड़ा 24 पर्सेंट कम हुआ है। सामान के आयात के मामले में भारत के सबसे बड़े कारोबारी साझेदार चीन से अप्रैल और मई में 3.2 अरब डॉलर के सामान का ही आयात हुआ था। यह आकड़ा जून और जुलाई को देखते हुए बेहद कम था, लेकिन इसकी वजह देश मे लॉकडाउन लागू होना था।

हालांकि मई के बाद एक बार फिर से चीन से सामान के आयात में इजाफा देखा गया है। जून में चीन से 4.8 अरब डॉलर के उत्पादों का इंपोर्ट हुआ है, जबकि जुलाई में 5.6 बिलियन डॉलर के उत्पादों को आयात किया गया है। इस आंकड़े से साफ है कि भारत चीन से सामान के आयात में एक बार फिर से लॉकडाउन के पहले के लेवल पर पहुंचने के करीब है। मार्च में यह आंकड़ा 5.8 बिलियन डॉलर का था। आर्थिक जानकारों का कहना है कि कोरोना काल में चीन से मेडिकल उत्पादों का जमकर इंपोर्ट किया जा रहा है, इसलिए आयात में इजाफा दर्ज किया गया है। जनवरी से जुलाई के बीच बीते 7 महीनों में भारत ने चीन से 32.2 अरब डॉलर के सामान का आयात किया है, जो बीते साल के मुकाबले 24.7 पर्सेंट कम है।

चीन के जनरल एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ कस्टम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल और मई में आयात बुरी तरह कम होने के चलते आंकड़ों में यह कमी दर्ज की गई है। दोनों देशों के बीच इस साल जनवरी से जुलाई की अवधि में कुल 43.37 अरब डॉलर का कारोबार हुआ है, लेकिन इसमें चीन का पलड़ा भारी रहा है। चीन में भारत के सिर्फ 11 अरब डॉलर के उत्पादों का निर्यात हुआ है। हालांकि बीते साल के मुकाबले यह आंकड़ा 6.7 फीसदी अधिक है।

यही नहीं पूरी दुनिया में ही चीन के निर्यात में तेजी से इजाफा देखने को मिला है। जुलाई में चीन के निर्यात में 7.2 पर्सेंट का इजाफा दर्ज किया है। तमाम अनुमानों को पछाड़ते हुए चीन ने यह ग्रोथ हासिल की है। यही नहीं एक तरफ चीन के एक्सपोर्ट में बढ़ोतरी हुई है तो दूसरी तरफ इंपोर्ट में 1.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एयर इंडिया के टाटा ग्रुप के हाथों बिकने की ख़बर पर भड़के बीजेपी सांसद, कहा- केस करूंगा, पहले भी जा चुके हैं कोर्ट
2 किसान क्रेडिट कार्ड: किसानों ने सबसे ज्यादा लिया लोन मोराटोरियम, कर्ज डूबने का बढ़ गया खतरा
3 स्मार्टफोन की आत्मनिर्भरता में लगेगा एक दशक का वक्त, जानें- क्यों पीछे हैं भारतीय कंपनियां
ये पढ़ा क्या?
X