ताज़ा खबर
 

लोन की किस्तों में तीन महीने के लिए चाहते हैं छूट तो ऐसा बिलकुल न करें, पड़ सकता है भारी, बैंकों ने ग्राहकों को चेताया

यदि आप आरबीआई की ओर से दिए गए आदेश के मुताबिक अपने किसी भी लोन की किस्तों को रुकवाना चाहते हैं तो आपको सावधानी बरतने की भी जरूरत है। इस फैसिलिटी को देने के बहाने धोखेबाज बैंक ग्राहकों को फोन कर रहे हैं।

तीन महीनों की किस्तों में छूट के लिए ऐसा काम न करें

भले ही पूरे देश में लॉकडाउन की स्थिति है और लोग अपने घरों में बैठे हैं, लेकिन ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले अब भी पूरी तरह से सक्रिय हैं। ऐसे में यदि आप आरबीआई की ओर से दिए गए आदेश के मुताबिक अपने किसी भी लोन की किस्तों को रुकवाना चाहते हैं तो आपको सावधानी बरतने की भी जरूरत है। इस फैसिलिटी को देने के बहाने धोखेबाज बैंक ग्राहकों को फोन कर रहे हैं। बड़े पैमाने पर ऐसे ठगी के मामले सामने आने के बाद सरकारी क्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक और निजी सेक्टर के एचडीएफसी बैंक समेत कई बैंकों ने ग्राहकों के लिए एडवाइजरी जारी की है। बैंकों की ओर से ग्राहकों को ईमेल करके या मेसेज के जरिए सावधान रहने को कहा जा रहा है।

इसी को लेकर भारतीय स्टेट बैंक ने ट्वीट किया, ‘साइबर फ्रॉड करने वाले लोगों से ठगी के नए तरीके इजाद कर रहे हैं। ऐसे तत्वों से निपटने का यही तरीका है कि जागरूक और सावधान रहा जाए। ध्यान रखें कि ईएमआई को स्थगित करने के लिए ओटीपी की जरूरत नहीं है। किसी से भी कोई ओटीपी शेयर न करें।’ इसके अलावा एचडीएफसी बैंक ने ग्राहकों को मेसेज भेजकर आगाह किया है। बैंक ने कहा, ‘मोराटोरियम के तहत आपकी बैंक किस्तों को स्थगित करने के लिए एचडीएफसी बैंक कभी ओटीपी की मांग नहीं करता। इसके अलावा नेटबैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग पासवर्ड, कस्टमर आईडी और यूपीआई पिन की भी कोई जरूरत नहीं होती है।’

सतर्क रहें, जानें- कैसे ठगी को अंजाम दे रहे धोखेबाज: दरअसल ऑनलाइन ठगी करने वाले तत्व लोगों को फोन कॉल करते हैं और उनसे ईएमआई को स्थगित कराने की बात करते हुए ओटीपी की मांग करते हैं। यदि कोई ग्राहक ऐसा करता है तो झट से बैंक खाते से बड़ी रकम साफ कर देते हैं। भारतीय स्टेट बैंक ने कहा कि साइबर क्राइम का यह नया स्टाइल फ्रॉड लोगों ने शुरू किया है। ऐसे फ्रॉड केसों में ग्राहकों लोन ईएमआई स्थगित कराने के नाम पर ओटीपी पूछा जाता है और फिर बड़ी ठगी हो जाती है। इसलिए किसी से भी ओटीपी साझा न करें।

कैसे बरतें सावधानी: यदि कोई आपसे वन टाइम पासवर्ड यानी ओटीपी की मांग करता है तो बिलकुल न बताएं। कोशिश करें कि ऐसी कॉल्स को उठाएं ही नहीं। यही नहीं पीआईबी की फैक्ट चेक टीम ने भी ट्वीट कर बैंक ग्राहकों से सावधान रहने को कहा है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: जानें-कोरोना वायरस से जुड़ी हर खबर । जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल ।  कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जान‍िए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 लॉकडाउन खोलने के इस तरीके पर चल रहा सबसे ज्यादा विचार, जानें- इंडस्ट्री चालू करने को लेकर है क्या प्लान
2 सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के कर्मचारियों को मिलेगा एक लाख रुपये का ब्याज मुक्त लोन, कोरोना संकट में नौकरी के लिए प्रोत्साहन
3 कोरोना के संकट से निपटने के लिए ममता बनर्जी के सलाहकार होंगे नोबेल विजेता अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी