ताज़ा खबर
 

एयरटेल के बाद Idea ने तेज की रिलायंस जियो के खिलाफ कानूनी लड़ाई, नए ऑफर्स देने की इजाजत पर TRAI को दी चुनौती

एयरटेल के बाद अब आदित्य बिरला ग्रुप की टेलिकॉम सर्विस देने वाली आइडिया सेल्यूलर ने भी ट्राइ के खिलाफ रिलायंस जियो को फ्री सेवाएं देने की इजाजत देने के फैसले का विरोध किया है।

idea, idea recharge, idea cellular, idea cellular payment, idea cellular recharge, idea data plans, idea data recharge, idea data pack, idea internet, idea internet plans, cheapest data plan, cheapest data plan in india, cheapest data plan 3g,तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर। (Photo: Idea cellular)

एयरटेल के बाद अब आदित्य बिरला ग्रुप की टेलिकॉम सर्विस देने वाली आइडिया सेल्यूलर ने भी ट्राइ के खिलाफ रिलायंस जियो को फ्री सेवाएं देने की इजाजत देने के फैसले का विरोध किया है। आइडिया ने ट्राइ के खिलाफ टेलिकॉम डिसप्यूट ट्रिब्यूनल में अपील की है। कंपनी ने रिलायंस जियो द्वारा दी जा रही फ्री सेवाओं को रद्द कराने के लिए ट्रिब्यूनल में अपील की है जिस पर ट्रिब्यूनल आगामी 1 फरवरी को सुनवाई होगी। वहीं इसी तारीख को भारती एयरटेल की अपील पर भी सुनवाई होगी।

रिलायंस जियो ने ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए वेलकम ऑफर के जरिए फ्री सर्विसिस का ऐलान किया था जो बीते 31 दिसंबर 2016 तक मान्य था। इस ऑफर बाद में 31 मार्च 2017 तक के लिए बढ़ा दिया गया था। इस ऑफर के बाद एयरटेल ने टेलीकॉम ट्रिब्यूनल में हलफनामा दायर कर दावा किया था कि ट्राई नियमों को तोड़कर जियो को लोक-लुभावने ऑफर्स देने की इजाजत दे रहा है।

वहीं भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस जियो की मार्च तक मुफ्त वॉयस और डेटा सेवा पर अटॉर्नी जनरल की राय मांगी है। प्रतिद्वंद्वी कंपनियों ने रिलायंस की पेशकश को बाजार बिगाड़ने वाला करार दिया है। एक शीर्ष सूत्र ने कहा कि ट्राई ने जियो द्वारा दी गई दर योजना पर सरकार के शीर्ष कानूनी सलाहकार की राय मांगी है।

रिलायंस जियो ने अपनी 90 दिन की शुरुआती पेशकश 3 दिसंबर को बंद होने से कुछ दिन पहले ही ‘हैप्पी न्यू ईयर ऑफर’ की पेशकश की थी जिसके तहत कंपनी अपने मौजूदा और नए ग्राहकों को मुफ्त वॉयस और डेटा की पेशकश कर रही है। ट्राई ने इस बारे में कंपनी से स्पष्टीकरण मांगा था। नियामक इस पर कंपनी के जवाब की समीक्षा कर रहा है। नियामक ने पिछले महीने जियो से यह स्पष्ट करने को कहा था कि क्यों न उसकी प्रचार और प्रोत्साहन योजना को बाजार बिगाड़ने वाला माना जाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जानिए कैसे क्लेम कर सकते है एचआरए टैक्स में रियायत
2 विश्व आर्थिक मंच 2017: निर्मला सीतारमण ने कहा, भारत जैसा देश रोबोटिक्स से दूर नहीं रह सकता है
3 भारत चौथी औद्योगिक क्रांति के लिए तैयार, संपत्ति वितरण के लिये संपत्ति सृजन जरूरी: अंबानी
ये पढ़ा क्या?
X