ताज़ा खबर
 

नकदी की कमी से दो तिमाही में भारती की जीडीपी वृद्धि दर होगी कम: एचएसबीसी

HSBC का अनुमान है कि जीडीपी वृद्धि 2016-17 की तीसरी और चौथी तिमाही में करीब दो प्रतिशत कम हो सकती है।

Author नई दिल्ली | January 12, 2017 7:13 PM
एचएसबीसी

देश की जीडीपी वृद्धि दर में चालू वित्त वर्ष की तीसरी और चौथी तिमाही में दो प्रतिशत की कमी आ सकती है। इसका कारण चलन वाली प्रभावी मुद्रा में उल्लेखनीय रूप से कमी आना है। एचएसबीसी की रिपोर्ट में यह कहा गया है। हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पर्याप्त नोट की छपाई हुई है, ऐसे में वृद्धि सात प्रतिशत के दायरे में लौट आएगी। वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी के अनुसार सरकार का उच्च राशि की मुद्रा को चलन से हटाने तथा नये नोटों को चलन में लाने का वृहत अर्थव्यवस्था पर मिला-जुला प्रभाव पड़ सकता है।

एचएसबीसी ने एक शोध रिपोर्ट में कहा है, ‘जीडीपी की नकदी लोचशीलता का उपयोग करते हुए हमारा अनुमान है कि वृद्धि 2016-17 की तीसरी और चौथी तिमाही में करीब दो प्रतिशत कम हो सकती है। इसमें यह माना गया है कि चलन में नई मुद्रा की संख्या में दिसंबर की शुरूआत तक 60 प्रतिशत की कमी आयी है।’ रिपोर्ट के मुताबिक कम-से-कम दो तिमाही में वृद्धि में कमी का मतलब है कि उत्पादन अंतर को पूरा होने में लंबा समय लगो और पहले से कमजोर निवेश चक्र को पटरी में आने में और समय लग सकता है।

एचएसबीसी ने कहा कि दीर्घकालीन लाभ इसके आगे के सुधारों पर निर्भर करेगा। कालाधन में उल्लेखनीय रूप से कमी लाने के लिये सरकार को इसके (कालाधान) छिपाने के अन्य स्थानों (रीयल एस्टेट, सोना, विदेशी मुद्रा) पर कार्रवाई करनी होगी। डिजिटल भुगतान के संदर्भ में रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार को खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में बाधाओं को दूर करना चाहिए। वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के बारे में कहा गया है कि अप्रैल में यह लागू नहीं होगा लेकिन इस साल इसके लागू होने की संभावना है।

RBI ने नहीं सरकार ने लिया था नोटबंदी का फैसला; 2000 रुपए के नए नोट को मई 2016 में ही दे दी गई थी मंज़ूरी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App